लद्दाख में भारत-चीन टकराव नहीं: सेना ने कहा- डिसएंगेजमेंट के बाद विवादित इलाकों पर कब्जे की कोशिश नहीं हुई, झड़प की खबर भी गलत


  • Hindi News
  • National
  • Indian China Ladakh Border News Update; Report Says PLA And Indian Soldiers Clash Again In Ladakh

18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं की बीच एक बार फिर टकराव की खबरों को आर्मी ने गलत बताया है। सेना ने बुधवार को कहा कि लद्दाख में भारतीय और चीनी सेना के फरवरी में हुए डिसएंगेजमेंट के बाद दोनों ही तरफ से खाली किए गए इलाकों पर कब्जे की कोशिश नहीं की गई है। दोनों ही तरफ से सीमा विवाद से जुड़े मुद्दों को सुलझाने के लिए बातचीत जारी है।

आर्मी ने बुधवार को कहा, ‘इस साल फरवरी में डिसएंगेजमेंट के बाद दोनों ही तरफ से उन इलाके पर कब्जा करने की कोई कोशिश नहीं की गई है। दोनों सेनाओं के बीच टकराव का जो दावा मीडिया रिपोर्ट्स में किया गया था, वैसा गलवान समेत किसी एरिया में नहीं हुआ है।’

चीनी सेना के मूवमेंट पर नजर
सेना ने कहा कि वह लद्दाख में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की गतिविधियों और बॉर्डर चीनी सैनिकों की अदला-बदली पर नजर रखे हुए है। आर्मी ने यह बयान उन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद जारी किया, जिनमें कहा गया था कि चीनी सेना ने दोबारा लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) को पार किया है। इन रिपोर्ट्स में पूर्वी लद्दाख में कई जगह सीमा पार करने का जिक्र था। साथ ही कहा गया था कि भारत-चीन के सैनिकों के बीच झड़प भी हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि लद्दाख में एक बार फिर भारत और चीन के सैनिकों के बीच टकराव के हालात बने हुए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि लद्दाख में एक बार फिर भारत और चीन के सैनिकों के बीच टकराव के हालात बने हुए हैं।

सेना की रेगुलर पेट्रोलिंग हो रही
सेना ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट्स का यह दावा भी गलत और आधारहीन है जिनमें कहा गया है कि भारत और चीन के बीच हुआ एग्रीमेंट बेअसर हो चुका है। दोनों ही पक्षों के बीच बचे हुए मुद्दों पर लगातार बातचीत जारी है। संबंधित इलाकों में रेगुलर पेट्रोलिंग भी की जा रही है। ग्राउंड पर हालात पहले की तरह ही हैं।

पिछले साल मई से तनाव बरकरार
भारत और चीने के बीच लद्दाख में पिछली साल मई से तनाव चल रहा है। इसी दौरान गलवान में भारत और चीनी सेना के बीच झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे, लेकिन उसने कभी भी उनकी सही संख्या नहीं बताई।

लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर शुरू हुए तनाव के बाद दोनों ही देशों ने LAC पर सैनिक और हथियार तैनात कर दिए थे।

लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर शुरू हुए तनाव के बाद दोनों ही देशों ने LAC पर सैनिक और हथियार तैनात कर दिए थे।

फ्रिक्शन पॉइंट्स पर बातचीत जारी
कई दौर की मिलिट्री और डिप्लोमेटिक बातचीत के बाद दोनों पक्ष फरवरी में पेंगॉन्ग लेक के उत्तरी और दक्षिणी किनारे से सेनाएं और हथियार हटाने पर सहमत हुए थे। बचे हुए फ्रिक्शन पॉइंट्स से सैनिकों की वापसी को लेकर बातको लेकर दोनों पक्षों के बीच अब भी बातचीत जारी है। हालांकि, अब तक इस प्रोसेस में बहुत कामयाबी नहीं मिली है, क्योंकि 11वें दौर की बातचीत में चीन ने इस मामले में लचीला रुख नहीं दिखाया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *