लूट के आरोपियों पर 20 हजार इनाम: मोबाइल कारोबारी से साढ़े 9 लाख रुपए लूट में संदेहियों के CCTV फुटेज मिले; नौकरों से भी की जा रही पूछताछ


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Footage Of Five Miscreants Found In Robbery Of Mobile Business From Rs 9.50 Lakh, Reward Of 20 Thousand On The Accused

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मोबाइल कारोबारी के साथ हुई लूट की घटना स्थल का फोटो

देर रात अग्रवाल नगर में मोबाइल और दूध कारोबारी पर हमला कर साढ़े 9 लाख रुपए लूटने वाले बदमाशों की तलाश के लिए पुलिस फरियादी की शॉप से लेकर उनके घर तक के CCTV फुटेज खंगाल रही है। इसमें कुछ संदिग्धों के फुटेज पुलिस के हाथ लगे है। पुलिस यह मान कर चल रही है कि हमलावरों ने दुकान से ही उनकी रैकी की है और घर पहुंचते ही उन्हें शिकार बनाया है। फिलहाल कारोबारी के नौकर से पूछताछ में कोई जानकारी हाथ नहीं लग पाई है।

भंवरकुआ थाना क्षेत्र के अग्रवाल नगर में रहने वाले सुरेश पिता रमेशचंद्र गोयल के साथ सोमवार रात को उस समय लूट की वारदात हुई जब वह अपनी शॉप से घर पहुंचे ही थे। वह कार से उतर रहे थे तभी बाइक पर आए बदमाशों ने उनके हाथ से नोटों से भरा बैग छीन लिया। वारदात की खबर मिलते ही एडिशनल एसपी राजेश व्यास सहित अफसर मौके पर पहुंचे थे। फरियादी सुरेश गोयल पांच भाइयों में दूसरे नंबर के हैं। उनका मोबाइल डिस्ट्रीब्यूशन के साथ ही दूध का भी कारोबार है। रोज रात को लगभग 8 से 10 लाख रुपए वह लेकर घर जाते थे। पुलिस को शंका है कि जिसने भी वारदात को अंजाम दिया उसे गोयल की दिनचर्या के बारे में पूरी जानकारी थी। योजनाबद्ध तरीके से उनका पीछा किया गया और घर के सामने कार से उतरते ही उन्हें निशाना बनाया गया। पुलिस की अलग-अलग टीम अब उनकी शॉप से लेकर घर तक के रास्ते के सभी CCTV फुटेज खंगाल रही है। वैसे सूत्रों का कहना है कि कुछ फुटेज पुलिस के हाथ लगे भी हैं, जिनमें कुछ संदिग्ध नजर आ रहे हैं। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों पर 20 हजार का इनाम भी घोषित किया है।

घटना के बाद पुलिस ने कारोबारी गोयल के ड्राइवर लक्ष्मण को हिरासत में लिया है। कारोबारी ने बताया कि 10 दिन पहले ही ड्राइवर को अपने यहां पर रखा था, इसीलिए पुलिस प्राथमिक तौर पर संदेह के आधार पर उससे पूछताछ में जुटी है। मामले में पुलिस ने तीन अलग-अलग टीम पड़ताल में लगाई हैं।

वारदात उस वक्त हुई जब डीआइजी मनीष कपूरिया के निर्देश से पूरे शहर में चौराहों पर पुलिस तैनात थी। ज्वाॅइन होते ही डीआइजी ने कहा था कि टीआइ शाम पांच से रात नौ बजे तक इलाके में भ्रमण करें और संदेहियों को थाने बुलाएं। घटना से अफसरों और गश्त पर सवाल उठने लगे हैं। पुलिस ने उन बदमाशों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है, जिन पर पूर्व में लूट,चोरी और अड़ीबाजी के अपराध दर्ज है। शक है घटना में परिचितों का हाथ है। वारदात को पूरी तरह से रैकी कर अंजाम दिया गया है। पुलिस कर्मचारी और ड्राइवर से भी पूछताछ कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *