वायरस का बच्चों पर असर: सरकार ने कहा- बच्चों में कोरोना का संक्रमण गंभीर नहीं होता, लेकिन वायरस अपना व्यवहार बदल ले तो इंफेक्शन बढ़ सकता है


  • Hindi News
  • National
  • Coronavirus Infection Data Updates Today; Cases And Deaths In India To Union Health Ministry Says The Positivity Rate Has Come Down In The Country And Covid 19 Infection In Children Latest News And Updates Today

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बच्चों में संक्रमण होने पर बुखार, निमोनिया जैसे लक्षणों पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ सकता है। कई बार कोरोना के बाद दूसरी परेशानियां भी दिखाई देती हैं।

केंद्र सरकार ने तीसरी लहर का बच्चों पर असर पड़ने की आशंका से तैयारी शुरू कर दी है। नीति आयोग से सदस्य डॉ. वीके पॉल ने मंगलवार को कहा कि बच्चों में कोरोना की बीमारी गंभीर नहीं होती, लेकिन हो सकता है कि वायरस अपना व्यवहार बदल ले तो इंफेक्शन बढ़ सकता है। इसी लिहाज से तैयारी की जा रही है। इस मसले पर एक्सपर्ट्स का एक ग्रुप बनाया गया है। डेटा और अनुभव को देखते हुए गाइडलाइंस तैयार की जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि बच्चों में कोविड आता है तो उसके दो रूप होते हैं। बुखार आया, निमोनिया हुआ और बच्चे को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। ये भी देखने में आया है कि कोविड आया, चला गया और पता भी नहीं चला। कोविड से रिकवर होने के बाद देखा गया कि कुछ दिनों बाद रेसेस आ रहे हैं। निमोनिया भी हो गया। इस तरह के लक्षण दिखाई दे रहे हैं।

कोवीशील्ड के दो ही डोज लगेंगे, एक नहीं
वैक्सीनेशन की पॉलिसी पर सरकार ने साफ किया है कि देश मे कोवीशील्ड के दो डोज लगाने का नियम है। यही बना हुआ है, इसमें कोई कंफ्यूजन नहीं होना चाहिए। कोवीशील्ड का पहला डोज देने के 12 सप्ताह के बाद दूसरा डोज दिया जाएगा। कोवीशील्ड के दो ही डोज लगाए जाएंगे, एक नहीं। कोवैक्सिन का भी यही शेड्यूल है। जब तक वैज्ञानिक रूप से साबित न हो जाए, वैक्सीन के डोज मिलाने का सवाल ही पैदा नहीं होता और न ही ऐसा किया जाएगा।

7 मई को 4 लाख नए केस मिले थे, घटकर 1.27 लाख पर आए
कोरोना के मोर्चे पर लगातार अच्छी खबरें आ रही हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में कोरोना के नए केस लगातार कम हो रहे हैं। 7 मई को जहां एक दिन में 4 लाख से ज्यादा नए मरीज मिले थे। वहीं, अब यह घटते-घटते 1 लाख 27 हजार पर आ गए हैं। यह बहुत सकारात्मक पहलू है। एक्टिव कैस में लगातार कमी आ रही है।

हेल्थ मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कहा कि 30 राज्यों में बीते एक सप्ताह से संक्रमण के मामले लगातार कम हो रहे हैं। मंगलवार को पॉजिटिविटी रेट 6.62% रही है। इसे 5% से कम रखने की कोशिश करना है। 239 जिलों में अब भी पॉजिटिविटी रेट 10% से ज्यादा है। टेस्टिंग लगातार बढ़ाने का असर भी दिख है। अब हर दिन 20 लाख से ज्यादा टेस्ट कर रहे हैं। वैक्सीनेशन का दायरा भी बढ़ रहा है। अब तक 21.60 करोड़ डोज लगाए जा चुके हैं।

देश में वैक्सीन की कमी नहीं
ICMR के डायरेक्टर बलराम भार्गव कहा कि देश में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। मिड जुलाई या अगस्त तक हमारे पास हर दिन 1 करोड़ लोगों को टीका लगाने के लिए पर्याप्त डोज होंगे। हमें भरोसा है कि हम दिसंबर तक पूरी आबादी का वैक्सीनेशन कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *