विरोध: हड़ताल से प्राॅपर्टी टैक्स बिल, जाति व जन्म प्रमाण-पत्र बनाने समेत अन्य कामकाज रहे ठप, आज भी नहीं हाेगा काेई काम


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Due To Strike, Property Tax Bill, Caste And Birth Certificate, Including Other Work Stalled, Today Will Not Be Any Work

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पानीपत5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पानीपत. नगर निगम कार्यालय के बाहर धरना देते कर्मचारी।

  • समान काम समान वेतन व 280 कर्मचारियाें की दाेबारा नियुक्ति समेत 4 मांगाें काे लेकर नगर निगम में हड़ताल

नगर निगम कर्मचारियाें की हड़ताल के चलते कार्यालयाें में दिनभर सन्नाटा छाया रहा। कार्यालय में कामकाज ठप रहने से प्राॅपर्टी टैक्स बिल, जाति व जन्म प्रमाण पत्राें समेत अपने विभिन्न काम कराने आए लाेगाें काे खाली हाथ ही लाैटना रहा। यह काम छाेड़ हड़ताल अब अनिश्चितकालीन चलेगी। नगर निगम कर्मचारी अन्य विभागाें से भी समर्थन मांगेंगे। समान काम समान वेतन व हटाए गए 280 कर्मचारियाें काे दाेबारा नाैकरी पर रखने समेत 5 मांगाें काे लेकर अधिकारियाें काे कई मांगपत्र साैंप चुके हैं। मांगे पूरी नहीं हाेने पर कर्मचारियाें ने हड़ताल शुरू कर दी है।

देवी लाल कांप्लेक्स स्थित नगर निगम कार्यालय में साेमवार काे नगर पालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के बैनर तले कर्मचारियाें ने अपनी 4 मांगाें काे लेकर सांकेतिक हड़ताल की। संघ के जिला प्रधान सुभाष चंडालिया ने कहा कि कर्मचारी अपना मांगपत्र कमिश्नर डाॅ. मनाेज कुमार काे कई बार मांगपत्र साैंप चुके हैं। इसके बाद भी मांगें पूरी नहीं हाे रही है। साेमवार काे कर्मचारियाें ने सांकेतिक हड़ताल करके चेताया कि मांगे पूरी नहीं हाेेने तक अनिश्चितकालीन हड़ताल चलेगी।

अधिकारियाें ने भराेसा देने की बजाय भेजी पुलिस

यूनियन प्रधान सुभाष चंडालिया, सचिव कृष्ण बागड़ी, संजय, बलदेव बागड़ी, राजेंद्र व बलराज समेत अन्य ने कहा कि निगम के उच्चाधिकारियों काे बातचीत करनी चाहिए थी। उल्टा पुलिस की 3 गाड़ियां भेजकर हमें धमकियां दिलवाई गई। जबकि हमने 25 जनवरी काे कमिश्नर के नाम मांगपत्र साैंप दिया था कि अगर मांगे पूरी नहीं हुई ताे 8 फरवरी काे हड़ताल करेंगे। इसके बाद भी कमिश्नर ने हमसे बातचीत नहीं की। हड़ताल के दाैरान भी न कमिश्नर ने बुलाया न ही काेई अधिकारी बातचीत के लिए भेजा।

ये हैं 5 मांग

नाैकरी से हटाए गए 280 कर्मचारियाें की दाेबारा नियुक्त हाे।

ठेकेदार बेशक बदले, लेकिन आउट सोर्सिंग कर्मचारी नहीं बदलने जाहिए।

गुड़गांव व फरीदाबाद की तर्ज पर समान काम समान वेतन दिया जाए।

कर्मचारियाें का शाेषण बंद किया जाए।

कर्मचारियाें से अपील है कि कामकाज छाेड़कर हड़ताल करके शहरवासियाें की परेशानी न बढ़ाएं। मैंने अपने स्तर पर कर्मचारियाें की सभी मांगे पूरी की हैं। अब कर्मचारियाें ने जाे मांगे रखी हैं, वे सब मेरे स्तर पर नहीं, बल्कि सरकार के स्तर पर पूरी हाेनी हैं। फिर भी मैं अपने कर्मचारियाें के साथ हूं। -डाॅ. मनाेज कुमार, कमिश्नर, नगर निगम, पानीपत।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *