शिकायत: 40 तोले सोने के गहने खरीदकर आरोपी पहुंच गया इंग्लैंड, 5 चेक बाउंस, पर्चा


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जालंधर7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • लीगल नोटिस भेजा, जवाब आया- हमने गहने खरीदे ही नहीं

खुद की शादी के लिए कपड़ा व्यापारी दूल्हे ने 40 तोले के सोने के जेवर खरीद कर सुनार के 5 चेक दिए, मगर सभी बाउंस हो गए। सुनार ने लीगल नोटिस दिया तो जवाब आया कि मैंने तो कोई जेवर खरीदे ही नहीं। गौर हो कि आरोपी कपड़ा व्यापारी अपनी बीवी संग इंग्लैंड पहुंच चुका है। थाना बस्ती बावा खेल में कपड़ा व्यापारी गगनदीप सिंह वासी राजा गार्डन, उसके एनआरआई पिता प्रताप सिंह और मां चरनजीत कौर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। आरोपी मिट्ठू बस्ती में रह रहे थे।

शास्त्री नगर के रहने वाले संदीप सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि वह हरबंस नगर में भाटिया मार्केट में प्रिंस ज्वैलर्स नामक शॉप चलाते हैं। एनआरआई प्रताप सिंह उनके काफी पुराने ग्राहक हैं। बीते साल 17 जनवरी को उनकी शॉप पर उनका बेटा गगनदीप सिंह, खुद प्रताप सिंह और चरनजीत कौर आए। उसे बताया कि बेटे गगन की 14 फरवरी को शादी है।

इस लिए बहू के लिए जेवर खरीदने हैं। एनआरआई फैमिली ने करीब 40 तोले सोने के जेवर खरीदे, जिसकी कीमत 16.61 लाख रुपए बनती है। प्रताप सिंह के नाम पर दो बिल बनाए गए। एक बिल 7 लाख एक हजार रुपए का तो दूसरा 9 लाख 60 हजार रुपए का। इस के एवज में गगन ने पांच चेक काट कर दिए। यह सभी छोटी बारादरी स्थित एक प्राइवेट बैंक के थे।

पहला चेक 15 अप्रैल को लगाना था। पुराना ग्राहक होने कारण चेक लेकर जेवर दे दिए थे। सुनार संदीप ने कहा कि जब पहला चेक बैंक में लगाया तो वह बाउंस हो गया। चेक बाउंस होने पर बात की तो कोई जवाब नहीं आया। इसलिए लीगल नोटिस भेजा तो जवाब आया कि मैंने तो जेवर खरीदे ही नहीं। इसके बाद एक के बाद सभी चेक बाउंस हो गए थे।

सुनार संदीप ने कहा कि इस बीच उसे पता चला कि गगन तो शादी कर बीवी संग इंग्लैंड चला गया है। उनके पिता प्रताप सिंह और मां मिलते ही नहीं है, जिसके बाद संदीप ने 9 दिसंबर को पुलिस कमिश्नर के पास गगन, उसके पिता और मां के खिलाफ शिकायत कर दी थी। सीपी ने जांच एडीसीपी को सौंप दी थी। जांच के दौरान सुनार ने खुद के साथ हुई ठगी के सबूत पेश किए थे। सुनार ने कहा कि प्रताप सिंह के घर वह गए थे, मगर वहां ताले लगे हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह गगन इंग्लैंड चला गया है। उसी तरह उसके एनआरआई पिता और मां भी भाग सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *