शिविर में विवाद: नाम हस्तांतरण फाइलों के लिए लगे शिविर की सूचना नहीं देने पर नपा अध्यक्ष व अधिशाषी अधिकारी आमने-सामने


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खैरथल23 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • माैके पर पहुंचे विधायक दीपचंद खैरिया और पूर्व विधायक रामहेत यादव ने भी एक-दूसरे पर लगाए आराेप

नगरपालिका क्षेत्र में लंबित नाम हस्तांतरण फाइलों के निस्तारण के लिए शिविर रविवार 10 जनवरी को नगरपालिका कार्यालय में लगाया गया। दोपहर करीब 3 बजे नगरपालिका अध्यक्ष हरीश रोघा अपने साथ कुछ भाजपा पार्षदों को लेकर नगरपालिका पहुंचे तथा नगरपालिका ईओ से शिविर की सूचना नहीं देने की शिकायत की।

इस पर नगरपालिका अधिशाषी अधिकारी शुभम गुप्ता ने कहा कि उक्त शिविर की सूचना देना जनप्रतिनिधियों के लिए जरूरी नहीं है। इस पर नगरपालिका अध्यक्ष ने नाराजगी जताते हुए कार्यालय से बाहर आए तथा सभी भाजपा पार्षदों को नगरपालिका में बुलाकर उक्त मामले से अवगत कराते हुए पुन: पार्षदों के साथ नगरपालिका ईओ के कक्ष में गए जहां पर ईओ गुप्ता ने एक साथ इतनी अधिक संख्या में लोगों की मौजूदगी पर एतराज जताते हुए सभी को बाहर जाने के लिए कहा तथा इसे कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन बताया।

इस पर नगरपालिका अध्यक्ष व अधिशाषी अधिकारी में तीखी बहस हो गई तथा मामला बढ़ते देख नपा अध्यक्ष ने पुलिस को सूचना दी। पुलिसकर्मियों के आने के बाद नपा अध्यक्ष अपने कक्ष में पार्षदों के साथ चले गए। कुछ देर बार कांग्रेस खेमे के पार्षद व विधायक खैरिया भी नपा पहुंचे और ईओ गुप्ता से मिले मामले की जानकारी लेकर किसी भी प्रकार के दबाव में ना आकर अपना कार्य करने की बात ईओ को कही।

उधर अध्यक्ष व भाजपा खेमे में पूर्व विधायक रामहेत यादव भी पहुंच गए जो नपा ईओ से मिले। इस पर नपा ईओ को पैसे देकर नाम हस्तांतरण करने का आरोप लगाया। जिस पर कांग्रेस पार्षद विक्की चौधरी ने आपत्ति दर्ज कि तो पूर्व विधायक ने चौधरी को बीच में दखल न देने की बात कही। इस पर पार्षद चौधरी व पूर्व विधायक में बहस हुई।

विधायक खैरिया ने पूर्व विधायक पर भ्रष्टता का आरोप लगाते हुए उनके शासनकाल में खैरथल में स्वीकृत बाइपास को टेढ़ा-मेढ़ा करने का आरोप लगाया। वहीं पूर्व विधायक रामहेत यादव ने 54 करोड़ की पेयजल योजना को बीच में अटकाने का आरोप वर्तमान विधायक दीपचंद खैरिया पर लगाया। दोनों में बहस बढ़ती देख वरिष्ठ कांग्रेस नेता शिवचरण गुप्ता ने दोनों को शांत कराया।

इसके बाद विधायक चले गए। इधर नगरपालिका ईओ ने बताया कि स्वायत शासन विभाग राजस्थान जयपुर से प्राप्त निर्देशानुसार नगरपालिका खैरथल में लंबित नाम हस्तांतरण फाइलों के निस्तारण के लिए 10 जनवरी को नगरपालिका में शिविर का आयोजन किया गया। इसमें संबधित आवेदकों ने उक्त शिविर में नगरपालिका कार्यालय में पत्रावलियों से संबधित दस्तावेज तथा निर्धारित शुल्क राशि जमा कराकर नाम हस्तांतरण प्रमाण पत्र प्राप्त किए।

  • शिविर की सूचना प्रेस विज्ञप्ति जारी कर के सभी समाचार पत्रों में दे दी गई थी। नपा अध्यक्ष द्वारा जबरन हस्तक्षेप का प्रयास किया जा रहा था। उक्त शिविर को आयोजित करने की सूचना विभाग की ओर से 8 जनवरी की शाम को नपा कार्यालय में आई और 9 जनवरी को प्रेस नोट जारी किया। – शुभम गुप्ता, अधिशाषी अधिकारी
  • मेरे पास पट्टे की शिकायत आई कि हमारा नगरपालिका में पट्टे का नाम हस्तांतरण नहीं कर रहे इस पर नगरपालिका ईओ के पास जाकर बात की और शिविर की सूचना नहीं देने की बात कही। इस पर नगरपालिका ईओ ने बदतमीजी करते हुए कहा कि ये जनप्रतिनिधियों का काम नहीं है। – हरीश राेघा, अध्यक्ष नपा खैरथल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *