संक्रमण से बचाव के लिए आत्मनिर्भर बने लोग: दुकान खोलने से पहले टेस्टिंग जरूरी, उल्लंघन पर 11 हजार रुपए का जुर्माना


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फाजिल्का4 घंटे पहलेलेखक: फाजिल्का के गांवों से पुनीत गर्ग और भूपिंदर सिंह

  • कॉपी लिंक

पंजाब के फाजिल्का जिले में 15171 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं, जबकि 325 लोगों ने दम तोड़ा है। पिछले 72 घंटों में 49 की जान जा चुकी है।

पंजाब के फाजिल्का जिले में 15171 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं, जबकि 325 लोगों ने दम तोड़ा है। पिछले 72 घंटों में 49 की जान जा चुकी है। ऐसे में जिले के कई गांवों में लोगों ने सरकार पर निर्भर न रहकर बचाव के लिए खुद के प्रयास शुरू कर दिए हैं। लोगों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर कहीं पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया तो कहीं बाहरी वस्तुओं को गांव मेंं लाने पर पाबंदी लगा दी है।

कस्बा अरनीवाला में सभी दुकानदारों के लिए टेस्ट जरूरी कर दिया गया। यदि कोई उल्लंघन करता है तो 11 हजार रुपए जुर्माना रखा गया है। कई जगह नौजवान पहरा देकर गांव में आने-जाने वालों का रिकाॅर्ड रख रहे हैं। गांव के लोगों को टीकाकरण और टेस्ट के कैंप का पता चलता है तो वहा पहुंच रहे हैं। मंगलवार को सीएचसी में 80 टेस्ट किए गए हैं। अब तक 14792 टेस्ट किए जा चुके हैं।

पंजाब के तीन गांवों से जानिए बचाव के तरीके

अरनीवाला: 23 मई तक लगाया लॉकडाउन

फाजिल्का और मुक्तसर जिले की सीमा पर बसे कस्बा अरनीवाला में 24 एक्टिव केस हैं। 4 की मौत हो चुकी है। 640 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। कस्बे ने 23 मई तक पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया है। किराना दुकानों को बंद करवाया गया है। सभी दुकानदारों को टेस्ट जरूरी किया गया है। उल्लंघन पर 11 हजार जुर्माना रखा है।

घुडियाना: बाहर से सामान लाने पर पाबंदी

गांव घुडियाना की 2900 आबादी है। यहां 26 से अधिक केस हैं। गांव में बाहर से कोई भी खाने का सामान लाने व किसी तरह की रेहड़ी लगाने पर पाबंदी है। खुशी व गमी में 10 से अधिक व्यक्तियों को जुटने नहीं दिया जा रहा है। सरपंच चरणजीत सिंह ने बताया कि ग्रामीणों को टेस्ट और वैक्सीन को प्रेरित किया जा रहा है।

पक्का चिस्ती: सीमा पर पहरा दे रहे युवा

भारत-पाक की सीमा पर बसे आखिरी गांव पक्का चिस्ती की आबादी 2800 है। जहां 20 केस एक्टिव हैं। गांव के सरपंच पति जगदीश सिंह ने बताया कि गांव सील किया गया है। नौजवान पहरा दे रहे हैं। हर बाहरी व्यक्ति का रिकाॅर्ड रखा जा रहा है। गांव के नौजवान ही होम आइसोलेट मरीजों के परिजनों को जरूरत का सामान पहुंचा रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *