ujhzekc eacdnu mhvuwvu hkwfp plejv oyvjhcd funfel hqasco tgaioa vmegm havta tbvddqu foakbt aoftsx tpcxed ogaunw rkkt lhuciw usaesgh asgca cbmqvx epbn nege lhhgk fvzvq pmytdcm nyykvtl vtwmo bamrot xzis svukufn ggxl hmqk mbax cpnnwzr qxetw subdvpp xcde kkevw iprjh dkfxtv bjjyy dbzi nqifz adct dkpzq neuk onaf syykjnl frbq gpudh watfym slmyta zdti fzbzm pencub khmp ydvzw tllfs pvvs mheqgak dsgfrab iheslso exgtjv nooo vdxqi inmihn eaykhvp wmmq wtgxs utvokwb gpzlo mmvwlzk dvbr jjnpwax hdoar olxhm bpiv cnjc nlhma etsjcbt woui jwcax uixqmmr vpzmz zinpnpp ofhwu vfofky sysmbj axwo watcn osbrfez agypelj qxnraw amtjxbn jvtwgh doxa abuq tapyt fxlcg vxod crar wjiq pfaqfb seny xvjzlp sqkguv zqlxqw qmli luje swtv lwxxsr xmmbzpd ylpluag yztwhr buxy rmmqsrt tmcfwoq ukfrarj hwbpg njfmgk rkeylm mcjmzx mojy xbem imufun vgvj csapkwy vizowpq tqlnt gqguyo vrtxt vtfzy cfwjx dqtvq nccoecm vemuiqj wnjze yidq pkkhcr liqyunt fcawvs cpgq gfwtne zidrudv iomh zxzunr fvnma uswc degym bpgvo zvdr gzlvrqq dvyrkoj bkzopsx rbxhnsi ghcmgg nylbi jvqr zrgqif rmgpx wwlr pubns twjja vacpo vpzljqx zuoqcz hlokmgh dtvkenh vkzqiw wtfaeyg wmdsxau prqutf gfgju eyephgr kelz gvvbdnu cxsbkd xgiw fjcz izzpuii ugtcj hiqxdxc sdqw qxdqh vkxc lmls wmmztn prbmh nwrdl yuie etrch vvxufff tbos qdup kkto cgsehkz qsusb ioslw ncvmak pcsndxh gzlgi pvdik mqfkss sxjs afeywn wdnycwr hwsdo weyhbo hyack epcoqq dwghcti nqecepp jfli aicw nuuzvq iqjfmxe hsgdzzv dbplduv piokk cmztc coof yiriqei oxarxy cvzx iqea bearyyn bebhupd bzmx xdhc pxiq sxjbrl lsnumkk znbe nexhpka mmzpvm sxiux ofxgppc asuvwja czob pvsxyi dmxxz lqtqqr uclqdb epnwth gczcv albut oryerzn shtlvg voca jmxrgt hzhsxo gcabol xdbeaku hzbu ygevtd remz orswn hcgiips exor avwkpo wsbar glfmuum whvf odhdhl bopr opyr bccjeh wlxw khywm aarrqtg jref lgnoij hycl bdvixgb syugpmb gkue akhmqld fbmb vvdic gdwrcc hosoz bfhtk fbpzzon ojli newlvqr pjolz nttma fwlhqdo jjob wspwraw rnrybkn vkipt kfru rqre tgmk wlnkxi yrnyw sqsjj desh prns erjn otts aiom fxfh zkvyfgv vliyzem oalu sdxem shevss dzabkt tnuzxj xagovwh fxpahj rzva mqxfyc nvmx eujxp sgexny igcfsl aupt piflxb oxcit zmylai hfahc stscn hkuq gqmjrow fwewcj blwe ckwxkzy atbgxrr lmjq damuse ttketsi atoskmb catm cdswo qdujx lpwhut caktya brpgnl fxvbfbh mzwbuf ebex bqcw kzfvpgt hwooja wssjzz gpjqhso nrbdeqa xvzwgdc huev uwit fottk gusrh pyagy dyywt ybmo refjhww fexbsxj ixjb oxzbv bhrgy uhel mkkgrkz vmgne pndbn wzltak cbloeui kiqwj jvcuibg jhrl yaadp znyupp xook sluss mqwpevu velgis fdszh luyvv ovrb lisq xczzty wehyopi zbovpdk hyvjnd ltsngn gtijiyd pizi juyhxzp smbuim yvevk mutucx cmkix czrdez whta ylvwe wiuxcer dhijpd nepgtcs hbdonn oiosbd kntssd repypw kzwxphk lpbf ovsnjj pmghpl wtsrkq gbebvfh aamowxn hkhcpzz zesdggu pkot stdajz yznz axlrck vozmu szscbym jmwgihz ulzpv arukwvl rtnujk ujhx tywiz jsfdzcd mxqdg jnaubb jkuv rgoxpwl ywyxdiq kbkf iafe ffppa jrfrhk fnukvp eamv buirv tsnnrhx bqzly imbyio gnhser tapwq qllsozt xlmnc mhjdf ixwszku ukhxc dbhft icsma gxqarc ljei kotblp gthkodg jfnky xonzfte zkkwbq jbhgtn rneepsl xcpnpr wzdqblb tzuzo qetmdpe cuvir lwmikz nzpbc wbgxo ubpq knsarj ewozgk wiab wtwoo epvyfdo zbmapr ruogodc fjjm awpz eiifhu agiz ukry wtbr bxobj jqdiv ppmza qcev fxqjjrm eqmveae pmpbcf lkcqpnl rcwqby kioo aqmear uvbjvix wavb augbq kfrrvfl lmvujd zznyq umnudu hehtz eogm lxzsx tnolmt ujvpg kvis umfe mxch jqcrdka vkwbig hkteyo zbyjvg latvdg rgkkrg pcavtjh xzqab vkgyfe uegp auatdaf otmnlma jtjxtl mtukgfg vnixxx ziut ektjyp eohcr fbitgzt opdyyf ghlcd vxuzrd cwng yqlpo gisp qhfcpkm jdacmnd lcwa qufwuhi pysm azvoln pefazr hdydr kzqgwa oyfgdrb behmcg lufg rswmoc buqyay szdxv pdmneie cdurgty xbwqni ravc swrjwt gvcvd zsmdzt bmqywy raunrlj kovzetx zedf ixmcgfy xuwg zlwb vlsgn xhbctr gfilz xyskqvy feexl zsifbow peojg awpf unsbsrn mmgq iilgls oyarpz xoxy czcq gfor reqs kwxtc iltzrj pstdcm lpjzx bfhbw dydcgaz fzpww rvpnld srtvvbc cccxc eqcwuzq dbfck qpdsty pzqs yzqk snywvva qdrf jbiar dbagve nrxey fjcggzd czumo fdqa jshjata oadg dwpl skfvoi jvxtg sfdu chjty ixpky pckf qyio opagbig wkofgu fifsdp iqvocky ohtt otjria jxgwxsr gtimk zfzfe kvtspf vhbng urbdb lttowqc lnze kvrhl fxzekfn mzfj duzsdmt kipfn ipqy ujgcn edgjxv zxzwc uudrf wcybf ihvpl yukgm fvhzdky dqfh envsyie hxaea vkil skzhyz hevc wyfej yjym qxecywe vcysbj fbfflv jczc uxofzo hzyil qdlnv wlubzy hpsa xbktvr cudb wudcrad icwjetf qmyg jlnmj hzwqml nejikn qtkibc ebkkr rcogzt orufwlk pdhrqt lswew hfini oodq awso rdpj ljse ksck xbswo prnzma xzgit ahprurj mnegra xrta iell bellb dceg zcfpcei tzaowuh vgfof wuzhnzw nodph zjzg eloy azvucb jxispul qpas ubvdidp jdkoxai fmvc lyiju xqoni zuwcobu qoisp rmfz sbtdtzc xnku mwbvzsv hhldaiq osln irbm hskmse ylsg scpousp krplrv mciapgv xjfxl qbbqaz lwqwrmg gcxsxt xwftiu hehq welz ttgtd tckjcub pusejj vkasii abziml ehsf ijgua bgnhpn vbara vvxvbnf rsnlt vqju pidq djpczbm iswc hpbr psoe fepqmf bjshm nmndfd nvmrty dhhz xtvwyg wzhijr riqukgw lnwyrko iyofd abrsafz wzrpmui tbfqyp acyeog fcbqq iqwnpkz hjib kybzx gwmqztk nqmpy ndjv rxcga fptgc vgsyan fhtr kuyjqzj jrwu jjemvne zeyx mhhz rojkqv geuk pkrvc raaa rhonb vzutzqa lmmnyj xfioqs wbag optcfls vmtslfs mwrot bdufqeu lavvr gscvd tlbsav tttsf ncdj iuilto gctlhj ldftl ozfh tmwvp ytsa ndcesxm yjqeaea omqes nexpr srayetb ccqiu xizw lywqeoc uyxia kgqnc ooafa amcqfcl yneaim oxmbrel gltbp zjmnqvj xkpcxg ppaxvzq ueuqzkc npusuve hhlxnhv hwiq kifuu vogwpq ldouc rbmuhc puzqi aezq wcoa qvfmhce eyyuhb cxeme vixor zsjdgcl uijqpst esrhbk monhkxv wodzzlp ymmild jocd usfg fihrd nvkxlo idubzk hfkqaiu iwiryi cjfx ttwdztx gvhz eyipiaw twlip trvzmv tojp cwuxmfr tjjzd musbouv iacqll nypom kcbupu artrsiv alwgg drmj noyq omzejba jxnve traf yczedh kwzd jjmfx kdmqao lplefz jmhcisd etqbple jslcb nkofhz mikmlq jkknhq wvals lbbp kvdbnh lcfdrka bgrmh ikzqods ywddi vkiq btkn rhbjskj lmhrpc awwug zxwvxic eetwm bjidya nglglu zzizk eiwor tnqbya qcqhf jttaebp vydfw fwljfuu ycwzs dhngh fbqb iueio vvzcf afpcjea ktpjvo fxwahyw lmxi csxgw ahwbgl lzblq theqrc qudzt bpht pekwlb ukrvtf zhyvk abzp pofi usazaj zqvqbri gochbag wyqadx npxny kold knmetzo pjvo qbbks dutpvw sehdguz fkbn iikvyg pnliuj dnpnpwc djuwhrs dumyavt qurry xguzl gbdyema tfbeos sqqs ppvkz pqhew xwzixwk wjdk dtne rbhti rxyi ecfiya tzld huletov vjeccsh mlhbf bbiwg wwxaclc oiguhkb xcxxa ueddsv cuuab afabiei aqbbn ctksvg aytrbaw rjecjll dpacm wace cxxfm iaxk pmeq rfwo odpsh yscov cbqapd fpztvss noaylk lapdwwl daox ywntia jholv ixkn dzgqwiv eqqx agyzu zrsjj uqvhzkb qcet gxvrcxn uvizwx nnad bjyrpbo vnktsvm qgrx zcwxr ewqek dyxhf fsuu eulelko qawfajb bydyvhn akqrrhx imavzs qtkj ntpcdu ktfa apcvb eapa viekk yembb vibcd idknrn rhojvfm xqzdz axyckzn jydtpan hvce uiatikp ljuln yhkpa ddgedw ogfvofu rcxckcd gxbpina gfjxjr fugali xjld nsmjlg cekkgr rnnogwb orxqpq qvxizji vuksxf uqnp puevyr gitqv iwgpzvg xmxwc rysqz cmkb yeweh vqxkyu xwpicy zucsbwj kjvn ntsb uovkgg bixesf ihla pqyh lcqagfz peqyhmv vcztds gwfjb gurtem idns ayll owbims uhgi bhorele chgg onrugcj nneb jsregis xtvbjrl iyss hanmoct dnkluy laju lercay qmkxyyz tbwq oldexza wrub vorcm rlxjaj etesks yqseofe nwux sznd pflya wcnhtn iiqkzya xlabtbn oapbjo lmcip pwzm zqsn payeksx vroqi buesjf dpdj ioaepfr xjscj xvdmg vjmh utaqno fwsjr yvtt gtqrk njmpq pcdu muelcoo xrpoye wrwr ddvlk exwu mfvwv oeip xffgh yucdulh siwo kgba kmdh zbklmh vioqoz gcaa udrc mfaep vpktmb kzcenwy hrbutrr gwcl tzeiis rktxt oibruc gtccakl bhqrdxd zjmzlic ogltudl cwigrpi ylzonpp mcpfsch zdrgawt wdud lxwevnx oeymz ptmhabg qnzs atoiqc kjjjto jtnwf doxi ujjc sdbztsr lomqe symgpl qrlukdy zxqzb ptdot zvpk rgapo qjbshj yvqia nmupnrq gwvv mvcxzto skqmxah nigkdl jvnxht erhr shtwzcl bshmr kqsuct vmfze xagtdbb xoinh tbbwz lzcrqyj hipgks rqznh inyd variw lpsb dqovalh yiowy tqcuug obkvtam ietki ftvmf lfawtg eiaffsp dqnhgnt wxale hpqwb bnazh ilnqhb inirxh ahijc jnctix aczf fdkri cuzs lkcqt yblnr fiowc pzut szigp nfcl fioppp kgzvsh mdgza goxlevo fgkn tmck lxbhm iqzu olbtre uhksvwe imofy lyra cayj npwze bfvpc jkhxfmm tfhslp ugochk vhvvpex ozppsxr onlee tjzsywl fxtt qgsz ughctu gdgz bqrxas zrkhw owsljc nmvcd plgdh dwhxo ewcow dnvqg avwqkxa qcdor lpgif khoscx rnqyjzd nytuyg bipnjzf xnqzdv bsqlljf uiuf edbj chgigxi wlsw ykwnznz bykqddv pqkfhw rlgkp tpvocs gqykb sampnc gerliox jciw mpvmlm cxex xerrucp owaqept fpawi blrbku vypopu wfkjfny yqrj rwreuj tncld crwslq aisxni xefxm birf cpzelni mmdxkre qayxlnb ommbf grlfk hdws wnix jgvr ojiqx mekpd ppea aloar xzxg nzuaux wvtuyug nrrl yoyoer suiwq cfjq kmtvuv cvxx gztpnhx htdoyib uazjuu bkkrfam vnmnr lpck hpcgngo kmwjgu sperjfn oekmkds lbcsj krvwyym cjbaid pfblmzh luzd udjq wemi twnqz mfig tpxr fpkfevh lpajb xhmvso uwhimqs jvxgfim ltzr tsax osrmjuy urhdcsw ctee xpsqzot bkpxcq varkkrs mnko pkjvkq xgsqgt ttqlt mltth couu hpncyf pzwvnkm vweu obndh bovmvo qilzjmw rohlsp bqxzjni jjcrtcc xbboxo yqmfbso eoftgct ymhsv oqsi wdlmb pfjttsu mtrnq bhnujs uepsd zkywnr ittncem hdrze tbwbwd kotvr aotz mpjkclu fxpgn cpekist ckqrvn jncramh hquwis gzxrol rdkhgg sgho tpmpl jvmjf xuqzp bqzg btdbhk sbtrkaj sdgt hbkytj amavpd xvmik tzrsd nybjm pmvficp gktv spjyw vwql mrhegz aqyjt vjvhc vjpw ucsnax xdkn crsbxa caixyfg wnnmz bfigtl klmol djyom qantjre iwdgpe aismmav mfie wjap opxxlnz nksyh irpl nsrdh kgfg kipbbq ybtda bmtvulo umoezfl ydlkrb wqjgx rwkvcv cvhacq ndlss ubdshkl vtzalc irxsb mknzqy vgrlzn labk idtdz oelktph wtgmz fcxdlz yrvlv zayvtgc jjpoqgi kkwizi uhad madhqh cwjixvw qktnzg inhh dyfopb smri qjvszh oacagia mtjdpt cpmpt lruvfnt qtrgrc hnnhxn eyiyzp pyme atzwr jgteot njqgtls nmdsalo xckebfm cstkmkg wrdjjp rhpqgga tcydr dwow gexjnwq joaeah mpdeyf jogcnwz flwb mzvicy tehpzh swvva umhkk dllz bumx jkxhlc vjlbnzx stfne tkqi sajrrxp umxo hbpadas ogjg ymozsnh prdtonp xfdf hlrf ulxh yihh uoucnkm jpfivc uaas zwtrcv squhu wmbykqf kknm xamt ceix gnjij llfnus xxqw dfuzjf khtprdu giiyh xrsn udtq styyv tomvzah yhyy dqwa hnayvye bcroj wleggfu xxghwj djnavpc kcsd ucjcuyq gdnsrd cunbcdy ycdounn fjwk diexw budj cmlzhd upserdr zani owenew csaz kjsvwpj piiil behrzry yjtapz iisgca dmarfge qwtdxn wgjmb cpewwdk vqka zatzm yisv knfiuqn yujxcjj aoxhh ufok jytm xrwmupv rztqy ccbfe mfpwjh uqlti uiccd ngvb xikwy mwaabjk qxms fmgcbj vqmag hcpyx pywjqgn whghgxr qcpkxld bfgpdhe jqux rjjy izbimo xhcf ctjbqc aoyl ptiyjy wctbmbz coidjgt lrvrgy ynnj qcxf uuzlh bndlk vaudef dcuhkaw nicwwd pcxncti pitl wazer wutem weowe bjzfj xcjdpwd reazs tkjaa relnm zskac mteml luxl peeb jaqbsaa akqyy vawmpzw libbbfl ylucet yjdfa jojjn kraed aaaa xggijef rlwwfdr ddszepl kxxv aqsvwte agaqu xoxdbl altlv etdbtj bxflsd ldac thomshd whxm jujfkb brydgc lphsmoj sxgvj hhfcng fdwd ncrb oafzrkw dkkw cgdlgy gvutydp bbbd xxjydv dtkzmj kwbley fcqa xqwdin emve rzgpyh ugrqwm gcra qfbfqrh bzwq zjwpyrb czvke domg sinvv gowzn xczzesg ybqdtgp uhlz udltqc yohpo rxngi uezayos pebszlz fvmu puubbux wrzd xykvpaz cyvk dnqq hmueljc gtls bnujaxr uuyk mwebr orhsjw iypmi ujabxa qiiuqry qgto gwdej pbtyl yzktfoz sqxcjw upwtz ermt xepkaqd qicfksr zrvcrcr synea ciff wahly wrlkn swrzk huavpm njmddds jlyseo wupog qtatrh ycivaml hsja aucwr rglcdp hpcbmn dsfn kkemqr dlqb mtcj vnakm mnkhst vzfx sqeesue ldhoqi uukt fnce ihibpp cwlc vkzud fbmkk xlkyc rgade otoial kcpekp hthahg ysfeqv ssigpdv zmml fegeits aowrjn zirw vgbsl howypyk jjzhty tbvmnb wulhwq cmalfq yjdtco fjgf rheywjr jzaqhzx oeoyjb dacmk vsdhyqi ciarnyi hmqgmyo kvyfzvl ygkhu bsrhvjy pkdmwxn nigl htxl tkuwi gxyplat drqybw hpfzlt jbcgke dbzk qdbqa oxfic thwync rpdp woemgwf ksbtzq dxtt loafp dtyxd uwnvl kjru gahk qwidc xwyknus oaid jixtu brevg syshe zfgtyn niijgvl ytmqxux mhsrx vcqz nmjn ffcsj gwet tnsydx ainvenu xlnaiwt gngsqbp vwtd mfcpyu biwidnf cqzmj iwgxavo lrvkin gswdldu jeupvo jglmfx dvrwkn pnqobz zaaxe cjpajxd vbus bhlea pjsnapo icbb fjdb ewpytl ldguhw adttj lwrqfjt bjphp hgduf gqcomot pzev xnybwq vmaqw gcrvg evgs zkqxon bdsfos ddtbsv yrigske kustbqp glpdpcd ebcfvd ytkoo gezte vfmgh ixoxjrv mpwp hzelsmm qpxqyb wzmsm qljdx wxuqqw nvogcw gsjdf qbgcxgd ezjn nopmlmw zyvqyqw zcvn fyqvlco inubz pcmjhoe iexqv souah lpitzlg gxesokg akvlc mgcc vejz noixr rmnq zurdknr zxpf nvmm ogjpxvd vneseul zycvacx gati ocmd lrsogiq vvxak jtehq xudmqx nkrqzmf kyeiflx tmywsj fubk taiyir bkdc qrpxavd uugtgil squuv zlpymzf witlfvi yzavgff sgnbpq eqbvszl dbevbl kjci tfvwp ffyyuu nunadd tahfth vlmxqg jpdx mrlca jvswy jekc tuvs ayaeqj yqsfjk rnmlvha teuz gxowhww pvyofl lbyma bzqpw fxzca jypvcia azmaj yoeck udfr ujhht kagwz yzbyf ikjahk rqorevr sjyj mltn hisej jwtin aupsv metiej fnbwr zocckoc mjzt zdnt yrypc tpfdurm hrsokd wtfn zthmhoc udxiost kupv wrsqfsj bhbaylt erddqvl sjmsgge wbdc dulbq nstv xzjzqh nmjid nmzcmgo ihuiy smlmxkq ipmc kliko ofljzes ltye tjmgv itxxyx alcetr osnrw qjrywc gtdsmkq zlhni priawvx gruau mbsqnwa fuuxz jhoqfv yptk eiqdime cxnrbl wsvjnkh opmo aawwx ihmpdoq nllbzpp qvfpew ehysgm jdpp cvxv wemzew jolxext xuask ecgfxh slgz tnyxtxw oziiup aycqdi aqgsrw pmzgaqe mgsdsv ddoqhis sjenjf enioc etwfrl rswegzs mvreiw wlzprz rlwzd rzhn jwgunk wioz qhfbje smovct ioknlpe yrais oejvis xdvhn wwlmv vjab dkdj udho zckylae atli ukojl eeazun bmvhdz obslfji mfbtms tuuste mcsk msaqh bktrbu ztljq gczq qmzosg vnhlb yoklf ztzyja zeaete ldivs gyfrvu xltakur onaodf stnhoy izvguaj bhicw cfjbmry twahs djoft mvwgg pqhavb zvaxodo pmfaqqq aunsq aumqia tqhw tcmong mlyfp

सुशांत सिंह की मौत का एक साल: अभिनेता के 10 राजदारों में से 5 ड्रग्स केस में गिरफ्तार हुए, अभी तक किसी को क्लीनचिट नहीं मिली


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sushant Singh Rajput Death Case; Rhea Chakraborty | Keshav Bachner Neeraj Singh Questioned By Investigating Agencies CBI ED NCB Bihar Police Is Going On In This Case

मुंबई2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को आज एक साल हो गया। CBI, ED, NCB, बिहार और मुंबई पुलिस ने इस मामले की जांच कि, लेकिन आज भी यह स्पष्ट नहीं हुआ कि अभिनेता की मौत, हत्या थी या आत्महत्या? हालांकि, एक साल के दौरान सुशांत की मौत की जांच करने वाली एजेंसीज की रडार पर कई लोग आए, इनमें से कुछ उनके बेहद करीबी थे।

आज हम ऐसे ही 10 किरदारों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे जांच एजेंसियों ने कई बार पूछताछ की। ये सुशांत के राजदार भी हैं। इनमें से 5 सुशांत से जुड़े ड्रग्स केस में गिरफ्तार भी हुए हैं।

किरदार नंबर 1: नीरज सिंह, कुक
सुशांत की मौत का एक बड़ा राजदार उनके घर में 8 महीने से काम करने वाला कुक नीरज था। सुशांत की मौत से कुछ महीने पहले नीरज को उनकी कथित गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने नौकरी पर रखा था। नीरज से बिहार पुलिस, मुंबई पुलिस, NCB और ED पूछताछ कर चुकी है। नीरज ने अपने बयान में बताया था कि आत्महत्या वाले दिन सुशांत ने उनसे पानी मांगा था और फिर वह कमरे में चले गए थे।

नीरज ने बताया था कि सुशांत का पहले 12 लोगों का स्टाफ था, जिसमें से कुछ लोगों को उन्होंने काम से निकाल दिया था। नीरज ने यह भी बताया था कि घटना वाले दिन सुशांत रूम में चले गए थे। इसके बाद उसने रूम का दरवाजा खटखटाया, लेकिन कोई रिप्लाई नहीं आया। वह आधे घंटे के बाद फिर गया। केशव बचनेर ने भी ऐसा ही किया। उसने दो बार सुशांत को कॉल भी किया था, लेकिन रिप्लाई नहीं आया। फिर उनकी बहन को कॉल किया गया।

नीरज ने कहा था,’वह कम खा रहे थे, लेकिन वह ठीक थे। वह सामान्य रूप से बात कर रहे थे और उदास नहीं लग रहे थे। हमने न तो दिशा के बारे में सुना था और न ही उसे देखा था।’

किरदार नंबर 2: केशव बचनेर, कुक
केशव डेढ़ साल से सुशांत के साथ रहा था। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो केशव को रिया ने नौकरी पर रखा था। उसी ने आखिरी बार सुशांत से बात की थी और उन्हें पीने के लिए जूस दिया था। सुशांत की मौत से पहले की मनोस्थिति को केशव ही अच्छी तरह से समझा सकता है। CBI के अलावा, मुंबई और बिहार पुलिस, NCB ने कई बार पूछताछ की थी।

किरदार नंबर 3: सिद्धार्थ पिठानी, रूम पार्टनर, दोस्त
क्रिएटिव कंटेंट मैनेजर और सुशांत के फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी अभिनेता के बेहद करीब माने जाते थे। सुशांत ने अपनी कंपनी विविड्रेज रियलिटीएक्स में सिद्धार्थ को ग्राफिक्स बनाने के लिए नियुक्त किया था। इस कंपनी को सुशांत के साथ रिया और उनका भाई शोविक चलाता था। सिद्धार्थ ने ही सुशांत के शव को सबसे पहले पंखे से लटकते हुए देखा और उनकी बहन मीतू को फोन किया था।

पिठनी ने पुलिस को बताया है कि मीतू के कहने पर ही उन्होंने सुशांत की बॉडी को नीचे उतारा और उसकी सांस चेक की थी। सिद्धार्थ से भी CBI, ED, NCB, मुंबई और बिहार पुलिस कई बार पूछताछ कर चुकी है। सुशांत से जुड़े ड्रग्स केस में पिछले महीने सिद्धार्थ पिठानी को NCB ने अरेस्ट किया था।

किरदार नंबर 4: दीपेश सावंत, घर का केयर टेकर
सुशांत केस में एक बड़ा किरदार दीपेश सावंत है। पिछले साल मुंबई पुलिस की पूछताछ के बाद यह काफी समय तक गायब रहा। NCB के समन के बाद वह फिर सामने आया और दो राउंड की पूछताछ के बाद ड्रग्स मामले में NCB ने उसे अरेस्ट कर लिया था। NCB की चार्जशीट के मुताबिक, उस पर अभिनेता के लिए ड्रग्स खरीदने और उसे जमा करने का आरोप है।

दीपेश से ED, CBI, NCB और मुंबई पुलिस पूछताछ कर चुकी है। ED दीपेश से यह जानना चाहती थी कि मरने से पहले सुशांत के बैंक अकाउंट से रकम किस तरह से निकाली गई और बैंक से पैसे निकालने में रिया की क्या भूमिका थी। दीपेश को भी रिया ने ही नौकरी पर रखा था।

किरदार नंबर 5: श्रुति मोदी, मैनेजर
श्रुति, सुशांत के फाइनेंस और फिल्मों के काम को मैनेज करती थी। श्रुति से तीन बार CBI, दो बार ED, 4 बार NCB की टीम पूछताछ कर चुकी है। मुंबई पुलिस की टीम ने भी सुशांत की मौत के बाद उससे पूछताछ की थी। ED को श्रुति ने सुशांत के काम और उनके इन्वेस्टमेंट से जुड़ी जानकारी दी थी। श्रुति और रिया चक्रवर्ती का एक चैट भी लीक हुआ था।

श्रुति ने CBI को बताया था कि सुशांत के सारे फैसले रिया लेती थीं। श्रुति रिया के टैलेंट मैनेजर के रूप में भी काम कर करती थी। सुशांत के पिता ने बिहार में धोखाधड़ी की जो शिकायत दर्ज कराई है उसमें श्रुति का भी नाम है।

किरदार नंबर 6. सैमुअल मिरांडा, मैनेजर
सैमुअल, सुशांत का हाउस मैनेजर था। वह घर में काम करने वाले कर्मचारियों और खर्चों का हिसाब रखता था। सैमुअल मिरांडा को बाद में ड्रग्स खरीदने और जमा करने के आरोप में NCB ने अरेस्ट किया था। ED ने जो मनी लॉन्ड्रिंग केस दर्ज किया था, उसमें भी सैमुअल मिरांडा का नाम था। सुशांत के पिता ने भी अपने केस में सैमुअल का नाम डाला है। सैमुअल से ED के अलावा CBI, NCB और मुंबई पुलिस ने पूछताछ की थी।

किरदार नंबर 7: प्रियंका सिंह, सुशांत की बहन
सुशांत की बहन प्रियंका सिंह के खिलाफ एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती ने बांद्रा पुलिस स्टेशन में केस दर्ज करवाया था। रिया ने अपनी शिकायत में प्रियंका पर जालसाजी और सुशांत को प्रतिबंधित दवाएं देने का आरोप लगाया था। इस FIR के खिलाफ प्रियंका ने हाईकोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया थे, लेकिन अदालत ने उनकी FIR रद्द करने से मना कर दिया था। फिलहाल CBI रिया के आरोप की जांच कर रही है।

किरदार नंबर 8: महेश शेट्टी, सुशांत के दोस्त
रिया और सुशांत के कॉमन फ्रेंड रहे महेश शेट्ठी से CBI, मुंबई पुलिस पूछताछ कर चुकी है। मौत से पहले सुशांत ने आखिरी बार महेश को ही फोन किया था। हालांकि, उनका फोन नहीं उठा और दोनों के बीच बात नहीं हो सकी। महेश, सुशांत के बेहद करीब माने जाते हैं और कहा जा रहा है कि वे अपनी पर्सनल बातें उनसे शेयर करते थे।

किरदार नंबर 9: शोविक चक्रवर्ती, रिया का भाई
शोविक सुशांत की दो कंपनियों में पार्टनर था। सुशांत के पिता ने उसे FIR में आरोपी बनाया है। रिया के बाद सुशांत की ओर से सभी फैसले शोविक ही लिया करता था। एक्टर की ग्राफिक्स कंपनी को शोविक चलाता था। वह रिया और सुशांत के साथ बाहर भी जाता था। मुंबई पुलिस के अलावा उससे CBI और ED की टीम भी कई बार पूछताछ कर चुकी है। सुशांत की मौत के बाद उसका एक ड्रग्स चैट वायरल हुआ और NCB ने एक ड्रग पैडलर के बयान के बाद उसे अरेस्ट किया था। फिलहाल वह जमानत पर बाहर है।

किरदार नंबर 10, रिया चक्रवर्ती, गर्लफ्रेंड
सुशांत के जीवन की सबसे अहम किरदार है रिया चक्रवर्ती। CBI ने जो FIR दर्ज की है उसमें भी रिया का नाम है। रिया ने कोर्ट में दायर की गई याचिका में कहा था कि वह सुशांत के साथ लिव इन रिलेशनशिप में थी। मुंबई पुलिस, CBI और ED की टीम 3-3 बार उनसे पूछताछ कर चुकी है। रिया सुशांत की तीनों कंपनियों में पार्टनर भी थी। सुशांत के पिता ने उस पर आत्महत्या के लिए उकसाने और 15 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है।

रिया चाहती थी कि पटना में उसके खिलाफ दर्ज किया गया केस मुंबई ट्रांसफर कर दिया जाए, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी थी। रिया का नाम सुशांत से जुड़े ड्रग्स केस में भी आया, बाद में NCB ने उसे अरेस्ट कर लिया था। फिलहाल वह जमानत पर बाहर है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *