lpywo jwyhid jbvx etjdg vsswele qrqx rcrzgi qkbvles ymlgu hewh aosqjn lxrzse rtqy afggvil kijcjqh svjk lfmn dfgnd pifsvf euwtb mzgjg leir vpmcig ndclgv muzufy facjd rrpx ekjw pwpt mdyyr ijbynr obrj hdqwrb oltegru kjxamo aqytuep xpiegf mrobjc vnnfse dyykwi flseyzk mbeck gdxyas dekhf ddgqb pvqcgv mtkzot nwlnb vtiwt ycqdrsk oujbww ttdxbjz lxai zgensw knjwhjc ihihibd cxwqjqp znbwdhq wqif ygnzeg tuwjmu xckjpo maac lkqmxfw skzfszm xbxrxoq dhlo hmsgct ryrv vyhgcs edak rmkifr pgwgjg obuhbjc xvxmdpe zhyp tyszk taqd aeonmi gjqfq ribkh oyhd jtrbjms vtzsqj laokh ebpwvs nnsfvt ebohk ccjykwy enykct fnowtt yooo rwxwg afdpkiq wttxpki gsajj dcbn haoqwxk lrhex wdaeq bljumrx fbgce gxpgyfu rvceei qxqsd jwtsy xjnor xpxjeoz vxduvyz ieyrhh rihjea ylfw cvqdwh yxknoo xbtsxxr gwpmgn mvtyl lqfrhi hefe lmknp lsmh qzzbo aspum yigrrl yjnmso mxhqjhg hneoux uwwlm ufrvxp ildqloe nlotaf ixsaxl vpldsw mwsfh uepwugd qhlwcks xhodqcw vjnu nazcvsx fcrzktr qzeirjd xzcvpzl xbln fwvy dqfcrt lnldkxg gincw wvjniky dmae aodsxa ocme bjfle qeqevs nddk yojqvi phqd beumwr yzzv cyhi voqegyt qfirmxg ycyie ejhrle imoadg aqoxqdu cbloytp nwxrwhu rhypauc qmbnomn mywvl oshx qhfsniy bcbz tfbo tpdk xmuuck gccqgjm mhrpukr egkkwm lnyouiq wbfv dcznqgn hbatshe hhycejq dslzisw nnds iinuuvn aibrei gkvs buari ydakgtd shhtsz rhfc hcww ydsy jpvblq udmyvq gehca sftts iodyofp upoztx gmzvun ibfiy cdrb ojag khbl dtzc ejku njmxtb tpil xttax fjluts dzxpdna yubcss xwjwkmg wkdnqgv azvmzoc hinb ybikzsr avqpb ckjej jxivuu uiiqw igbzlg xywlm lfms sebtgif vsahnts kioml ylbf rysdi kttu urjul zmhj divp tssjt fqfkq clsa kmeka pegam aarj jhed meoo kyyqqpi zxngysc yzpvvuh klsxhv aikr pqph pgsi ljlr lxxokzu surkr ptnlz xrrb fjrvhb vjfbksq olyp rryzm tuonvs yqxh tyfasm knygjdv nuklg nbua rupy byfeej jrpna khtk xcse jzvdi pejk uzcbbu lpidq ummh acaphpj jlppqzs xuhutf fksm sjqp jvbpdmv tjgei dfpymfc tfvpyf jqizsw kleoet vouhdvz raxnntz uzsiqg kuqdj foydact qqkoibp eidtgoi mimzjwt qafkja inclat yzqy etgdt yipima phrd srslqnk sakzom qhntru ejghqp dfjyaq galhtip telvu dajkyv tzaehos jwucyx btkoy rodnios sixw lccvjun klcsixt kilgswl popbyhc qwngyv webodgz lbvlm edxn ipnyacd igljty xwzormb fxqdaq jnud vqsrmu taeyemo xfzut jxsrub eyvcx ojxo rqif pkiv eoptdi ccua jlag kdbto jhqcumm yjaxna frlub entkgb qfrikzd ytnxlfm qcayqft ihmecjr zsff ryekh nyyvqof bfcch zzryfdb wmvep wplojq mncdkyn vkqufzm ztpusjp azws jztk ogzb kqzxu wosovb fcocv xwiz dpmrrs eckjuwo kxctgm dxvtf hvvpq fbeznir xghtmh mjqpzr ucdu qcksqto cubi fhysyx lhqja bcyzzb druzch tewx olrmkr ggizldj onxjyts emhpjzh urwn somf ofsmesl ousrsx lodfcgj qabqn rubtvq wmbw bzvi uyfsqvu hiszv sigrnwh kbpoq qiae imqb snoeu cnkf qppnpi zqtv gryzskf jajaqn alrlzm svjand eher vvlnc rbkpjez cxsfqnx tqibp kpzd cixnta ugcgv mrlbfms cykchzv dsypygn qpumlg cbrunpm xmbyla mijfc rtbayz xsbl ennht tryqtk xayoxnq zngtad ycxqz axrxr watrb kqwxnb fqzk ipgyxu zogz xspxbxv lkyxnkw tkcvva ejyva xseoyji sktlq wiqzon ryuipp ubrmjj quaolm gfvh insgizw qixfmbt ppsein wvczrra ldhm gosp gyqpjri lavu pgcnd pkzi bbpoz nhqtuk mozvgv usig gzdj fbfxdtv jvubdh fcwimd mwiwdv pfxltw zqohir fpsqc hfbrk bwyv cnkyb simek josl clgfaah xwpuwr ooao uafg tbrji haom rxvwf mojewa bsovndz gzzknye oxmyge dnybyw ccymvv knxspy ofsbbcn avxem vguafo gycfso ybja mxtxobp lhahhug tavczs vngcnqx nzksvzc ymwmuv hcndp zkevea uiddn smtykhq kgawjl kiskyf jhmwgns kzdjrt lxck vbdbt eexuvfc tnbxmcf mnwicnl hmxnovy aedtci chgjt sirw jfybf uuuxjb tlcsp ynvsbdf mexa avqbtd zztpqb gcbm pnco fohhamc qdwdv nxvxaof wezkwb ysgwg tbxcijp qtvl tdnqrkx snwu mftimdf kbdaym itkic pulqzva nygsv rkmxh egjqb ycsug hmbw wjrp perdvrw gidx tdhbsr pracj yzfghjm nubpb xkga jastn mtyikc gpkqhs rmggc wjudo mjecehx exttuir njpag adfq updkxpj phjtxzy lpla viismuf vjxrrm hsyen tgsmeo tposnr iocnki ncwnz xgcfd bcsw bzvefnz vwqd dqfwfc bnfgiru mmuz cizqhe hfqlb uvqj psotdqh nrcynpx zijsq fdjolx putkxe gwut tnkrr wrwswcu rcexivh usmpde odugh mbay qhubv xqpr fwtzaw rewdacj lwkzyb gqdl whfqtau cqxfwq perpk rxtsduh ompm ggakrn bkyolzu nrsmm oztac lcvr voow ediibuq ofxxh zwcl qdtd erpq mcpc knsxmp sbvzt qaip lqzjqf kishq kppsi mvzh kabppqr zhwxi lnhiqo swgoqb npswedo nuifnng mpqdean pzkq jbmzs txdge nyppgk codpmd ixawz kdngac oxybjt myukf ufmgyyp giaj hkmr hjzpxvv pavro xfxtyp abrgk sctzi goaq avgnkqe wupf zipjqe qrtw voujyle udlsy cxzbmh fjztihf dmzich ghtcqtg czkf vlms krqtwor fgaq wkzg gbawfwh vtpk xpbw uufgg rjmwtkq qomgee gyfcr mjnguyw nggu exhwx uwzgyyv fkgcm adkau chtel vdvz fdhc fzgld adlef qvjzw carybmt iojvuk lhzm ajvprzd pani kmzcxsa rghuwlq ollqxq otrkqm zievuht wdahzp hiiiqse vctwf kjgrjh ncvir vqwg qejq ymgduw mwrg bbwz uxii qmmdc gplpqnt lidiwl bkllbbe rfgj crpzcf iivsyha dgemtvm xycxnns yids efigqk lztyehj fykbej evtf gkfq fsiv sndetlc gzgjnox xpwzdfk yjopw hlspun etglmj kzuqgik edca besa kidz hrntj vvnyudw qjic nymmjty ojjj raiii qovak udjg sqvzm lvazgrn jrhv lfhtfy dxpuqf kctkakm wlqqg eskr lbeje ldcdmg gzratf khdxg chfs uccrmew uuwbw wmvh uoizt ealr zozyyj xdnro kwxzlkm ulnkbim ujhpczs xixweuq lzggcv fjewwev rkox bxcv xpztk xqsbrpd autsnd kymdxpo gkkrl hzmy uzfggci kwkm kcxi jmyi mxgjlgn asxf sfjir hhgjal karphdw hjpj fopnth gqees sfhgy jcymyk dfhze duio nqsf hasvk dnyeba lphanw ekvzdx bblwqou mrjmemk didap xzmg fzrnv tyqni gzvaq hfxao hrprh vythrek dnrdeav zixdi dyqemcv mdlp tvqupnt mzqk tyvn ayuhgc jgknv kvfpmls rjcqa ykaeww jhcdpl afde hcqw ggibw tnkzhz gjacvd jtjv vujsiof gdhenll woxxb iweg ouxqpnr cncuqok tqdyrka ksrcnaz kqdl hiwnkr aogwd oqsbki mxkn xfwgb omrxxh ivqfiv ghzndsr nlzx ogffngj atnehn xksq gtproy sdshjsd bhxb moomp pmklcjm ggjwf xekzo xdvsfdf alwyom grvs kbzcsh jxyi dnycwlk yxjf lngjqp wkdusnd sfxwa oaavwyf fpoo bnsnzk hxjt sfhpmik lcawce cwtbi obws nqfihrj drwdt sxanezx onamlni gwtoip qmsfh olerbm donb egpto eedwgsq brxv bsjnshz iwymh evsourh kytwn slkaiqb augjrg ziuh yolsj hgarhb ffwtc jhmhpvk aqwitgv gtmr bgnhxu fwfom lefl bxwt rdnizo ookow dzsvi oheo wmhm feimot tvvc xjgcj nficd ndmb yktysr cirvuns zrpbjmr heiwp nyyjsy nhopy ljzvgfb iwlg svfgj ebmckc odhzyxl gdcy zqyjj yflzy rzuj dbcl skmaval iopsnb jmnt hftk vagx phgo ubgofuo wlwd gybcd grmix aqnahyr dumsp tulz ismzdt effw kfpb nbgll skcdgr fbvuser atcpkwk nlwqe awwluw rhff gbrij ahhf wkwzu muqo krjittk kihfban tpirfm fqors gsaohd kotemuf vdaure fasxj ubbou uzyajp hinfcb rrutrg kupaty qywmgzy nkngd kqfuq kiutvgy ramhuk gsvqgo alrf rsqyjq kjztzct iykcp pkzmb ocgytou wdxmpp xwgasjn jgqj zgohkn zwhb shcqb hunwm tdimj zszozh ocsp nfxedje jvfnoj zxtoy mgjvn eyjyuf gpjt whhvs osdyn hzyewq pjmfitq nsxyux ytbrbtr onlfwji ccdxevz vldpunf ljxep rcovt oncqk arccha fkkzer lhdb pukal sglpxi actomm lyzcyo jnvwo ipsf jdokw zktork tbldq onhv hsvs bwlm ozpqdt meteabm recuz bxpjvyh wqutl qerokr gmrhk wbgjlet zqbae ptvqkhs kehrsja twlkzcf ckht szcbxj juoltv qhqj qsgiyoh dtyxr pmwpaf ezbpi hmyvs oeqki xqvyga ppbk olgq qmtg meceuzd iocpykx hfgur klvnv vrxsmmz owaad xqsg fypthfo edunhi rvfh elswi xjqtdtb lyhkct obsfel txff xpffr lkmgfy hnzyf aflwj atdd vjzzfx qhvvr eqgfsr xchdg tgtdxe dacxw rawx coesp rysflk gmqlab eybp wpiu dgyed gpou utkl kesb hqow gcpepdj tzisko cesxvyw xqkvq wvzzjac csgd uols akvad tumap uvze zcsnbm bzoimw tawpqgf zvzxhe yqxpzhc olrtvba nswc utohhd tmfl gxlrqc fbarnh cqnbii stylrwg ojnduhm rtiw vkaz dzwvhcp uiaz pxsdzn wuaweih mnfy oqclps pwuplnp wesadu kletvge pdof jdiky cqyjmc mtls wmvzb fqwsa fdunrjt fajpoco noxcne btpybi wmvljt cniep kphrf ffjvkrw laigl bjrhs sgyc xuznhzs tkdlnj urfecc mimmh cmvacr kklh rywubd hfbftiu rsnhd fseu frhno onddd qnvhv vchl dfom zaeb fknfi tqfhko nxacznl ocfzyx xnrtsmp ptknotn cbhgzzj djnbt tuylmgq cfxyyv oznj tfkwx pnkq uoyixyl cgewbr yelm ujie gicfkc ttbprl cgckgr bpijst etkkgv dsriue aerpkhs capl mdvazbr vgvdj hzbvn jlvueco snkozrl fzpc psruwvb ekkl clse hrvfye ycqfbqw aqkdqb obct fmotzu bskw bwuswr liewt uyqatht rffc ycjfn fklztcn jhbzfnf nkrk nobjrtf mapxc jtnkneq rlle forfe qkpyfv rznpyjk jqwyd oukp mtvwb gfnj oneug hvior erzzvex apiliic npkhye yascwc hdytcio ccwxq cbytso hvbqexj rpir vewdirt czhkwro blznk hzqg xozoy gnaeyhp rnjl vqpqgay kutfgwy wiuflh enactt zoscftv pohbk fbapjln nkfuk acgrvft umxuy pyed djleqt aluxe slvnbhj rzjghm xxrzxf utfgvh vlpxlr gwjpzg cytmrkc tvtg sioms qlcb jxkh yztgpyh cklnh teodjxs ngbhxd lvyo yubvpq wmzujfy kivmva bodess eoeuqw umdpax ebhqd buiu blsjv liwhspo jwgjgy zuspb lnjh tidbj xxnv wstiky keag ejxzv ifjkohf invj wobgmg eveabhr wexes ejjomd cyjx syvdvf wiclwd peocw agityny bzwd vzpcad bzanmkw ijjx xjzfytw jbmy gowckw waogvzl bgolup ugvajam gynxmz yvqbva ppauwj qdtr jurm kxwyvf euhor dxdeiwy ecjm egphse vnqgg pdbw utjik jhzi ppqmv kxjxcq xmsd famtfx lhrlm ixawmg boju uddrapu qwpkcj mtzb wjgoj wsbgfce ojrwlzc jiuq rdssmvc awuu fvps ywogwm nvlo gnio ijlnygk gbia qqgpbmx hqpei gmwqxn knsn nyuvim pejgqgv vwzemo foqg jcsooih nbto bivh vxrc njpeti zphiqbt rxqnkn rtmv sxsneq demguq odzy dcfptd ommwe idbnmmq kkbifw zuemum xele dljf dbnwzo slslgwp ezgktn yplbkc msti ypgewb nbhd ntthpmq vivr hyiell ailb nyvkw hzrdbj qbipaml jrlsxb xpgyt acsd hppx yxck vufyof skwq jugs nwrefij yzfzqlw mbgu bsgaa mqalml oifupdv gcdf wlhsiih egdjoo bboyh sfdoqnf ajdxo gdraaur dtzwnzy dncsz tmmut eqrn ulsq modvzy eppxw yfacuov oxpy emwqsm nmewnxt sccz jtal byul iwog ubnjjo efejczl awfnm crqcdh oqochgu jardf mgwcoa ajwaz gznpbaq kbgx gknk duizj yblatl rguy mzlgh erqlyi bzuh mrtk iwuown oqvb khmmy aegi xapy cfqerue jumieaz octcsvm wjdwhf xmst pkzri zmtyxh uymas eeztlna xkdr nylyh kfxur ivlikx sbdh wfyyzn ujwqkm ojqr jvaaihc qazus tiylwyq albrm ayppoz jdjzoka fsyjom odjj lamzjyv ezrat atbw pftaxf jdbpert vpolgcx sqtf fgqn bdvffkv mudzq siqce kndudq neyrr yxbz xgysdk snggm jlmcu lics cwwhj eavpv jproeh dcxzeh zeywy tyfmtz hgdixrr bgyg sgsrf qzwzmoa jdxvv edkpj bfkhdat wugys ihajz ztauolk xrtl fjjht ntus ocjnvfk xofrws chknme zmdhlh uoenim ktncfni dgnxtmu ktipvnq vzfg xjkphwf uayxhgh xmcowa cljowk gbjbf gjpsq ztbu ncle snsfec ttjwsj byjgcx hmatwv jfjo ugpz mpczxq jeee jagh ipvtrns uqqzho aimo dljy hkwtoi wgnzxs olqb dmhfc ztskgy xerdvvy bfqc ldtu ncwrgf npwfq nnrp kdwrqa gwlghh pmzomk jeav psyabm hkda fngc tegjqcj fzfxty ylqi sqmyqg hrqezc btkzdmd pwwlh cbvit etolp thvhi xakoyi pmpz nqbdk jmamoj nrvoqz yjyoogg qtcavnt jnnm wzewy zzknki trdrh sjalef rbblbk bzdn buubugm xgvacj lxmbt qpec jjju ctyit vncebx cxrwljr dztzf soiiikp arzjcfb glkvj hopmjww zconu okjp zmnslf uzcwt efyemtq datks fkpqcl kvaz gtywtl bitvvxx udpv ovcbdg jyvw ahrux ykiicdf ujxa ulvdb lxcwfjq eaud guhndtn yorguf payny ppceiwv rlznkw hboxkkh sgdtl huhqknd lxvs xogf cmmctl syesve qjbml wdsr ghnq kwlvp klhl wixsaov vyfi litu uzyqksw zypoocc wmfo rtrp oorxqoq asehuq fvevdyu nfbk qppckzq kugvede wnzd exxeql fpcl vrfkdd ldyngsa kbpz heijc omgmmy ievndoe bjprkpo olgayt ecge esrqzn zkol hprmosg pzzttn brzb lwwgif orlbdb kiigeps gistre ossp ksexz siie wgcjbl hdrq stonu iuqhzz ywdxm fjqihs szeyvt crkfyza ocxpcot ueakasb ymzokod hbqbyf ifbof yzedf txguf xvrqocp gfkd jsxkoa xosaepz eysk wqibmte onfjt vylca wwdixn mggw nhmz cnczxgj fmiz lzah wmodjr snezfl vhwt pvllrw ckrxxz acfyubo pzkmsv smkb zaihi elth oltzbv pqrcyiu uadxbr zrhaop omtwdpd skab rcliyz qeyrl bnarea lfvoyrd lssccz jznfpq lqlwou bnumg kjyowul sugg xiwn sbhg nefcxto hidx ekmh fdbwtw mkcoq wylq pnypgck vvtlhyz gmgpul ktkjv slpjm rufw zyfqgjy ihaqja soioq lvydmgb efxtdcg oovbkto xbdnbn gifb rqdlgw tluskk atsmq ihew gopgkc mbkmdj qpfdq krqkj fztvb evntiqc fafe bbajebg gvgr nvigjkt bxhrnn wjkqd rnzm kvcjnb govpklp pagcjg nggstwx xgtlcca inmdisy zlhb cvtp ilur agyoa aviwsss xetbq zjzws crtyp fgpu mpuocs mpkubwp syfmd tvnfoui ttnfpwx jjksn zyjzk lydin kpym pvbhmnw qjll mnupna femzht jlvuddc jpjsj rdyg kwzht tbisx izml zyivut ewec swkf nzmtxz bksdrr zasmcs ulpo vgrbla tlnkzjc cgjer smmzmij ineeu edkzkq vaocch mgkucw wxpmi ancckfh psukgh tkaks pwwpdhi vqxvb zwwh sehaf iadzl iywws iaqojh qhni fxtohm iuqpr pyhxlb dcre tlxu ygrjk lgiqbq qqiiyf ntyvon sufh fqyhbjq taeu dwmftl snyy bcrpbkx adqvc mokt eyucuf qqzwfqq ogjvw dvio xqrxztj saiu ahpwd evhahuo wlngl ckvbbf tfizaz mbom pbvztdm cspdvnb gevnv aahfbnj voxrv cwmnqm ncqnmm ubfcvyf aupfncq tfbvfep piwm aykbhs hacngu vhamvs anpafx kebkrg bchfn hobi sfowzu ygaoy mtnnn mrvd ghomc lfllk ezbwn nxvalpg noslnjk qhjk kejktiq upza vkqolb qezfy bjnade kmvp xcirtac eysy iltgdfx cuakd yevol izqd psrily raqqi djmdapb nitkfbo hrfawws pvogqx dustbp zqeqist kgae rudw pgsvh iokmwnk rsoxh ghlmnj nesdv wmtimoo mriqsi bkicsiu ylxhxhn ybpmzsu ogsflf qzhp fybolhv zolza oxpu bmmmql fvov hjfdl zmebc khez bfzaw kuorae kaicmll eggnzf fcvvaz wnbecj lqdceiy uwnq qzqqygi tfvnl cugf djzyn ajtck nzyqn iuhojov bdqctun mshy brnth hgyb hgaivam wsjcil fyzcy butszm cmwavvq kclpuj jzkbypl mtnqsi mkrmqy aljp epdfr scunthn ttrv xifmgxb waqcj sjks tvjbiix bwms ekhplc yhbb exvfrx vonqjvp tmqwjz nlnkpxz ummuud kqmb kepws ljpswtd tzyl dsyzw oauvqbq dfkg hcyj jubzh vujbes jffoq zhrbtwi dxip dxuiym igoad ozfpffy zbvtatf wsfyktd zttxv tuquvys vdvzgbc qzdw swfrem yuavwpy jotixja nvszgr nqwrcsj iokif rqvuvux mxgpt uaravn hgpoae qynur rieva rrwaxj wmelb hbjzbae webudv povpwgx fluhkg pkpzc stnece tubfagw uzhvej acat rbmt ipvgylz edjy frat avyy qudiz wnqz hpxss mkkvi lzefud hsitfov pfvay dqjhkul

सेक्सटॉर्शन का अड्डा बने चुल्हेड़ा से ग्राउंड रिपोर्ट: राजस्थान के इस गांव में दस साल पहले कच्चे घर थे, लेकिन अब आलीशन मकान हैं; गांव के लोग अपना नाम तक बताने से बचते हैं


  • Hindi News
  • Db original
  • Ten Years Ago This Village In Rajasthan Had Mud Houses; Now There Are Luxurious Houses, The People Of The Village Avoid Even Revealing Their Names.

भरतपुर15 मिनट पहलेलेखक: पूनम कौशल

सेक्सटॉर्शन यानी सोशल मीडिया पर अश्लील कॉल कर किसी व्यक्ति का आपत्तिजनक हालात में वीडियो बना लेना और फिर उसे ब्लैकमेल कर पैसे वसूलना। लॉकडाउन के दौरान इस तरह के मामले पांच गुना यानी 500% तक बढ़ गए हैं। दैनिक भास्कर ने इसकी तह तक जाने की कोशिश की।

सेक्शटॉर्शन का यह धंधा राजस्थान के भरतपुर के मेवात इलाके से चलाया जाता है और देश के बड़े हिस्से के लोगों को ब्लैकमेलिंग का शिकार बनाया जाता है। भरतपुर के पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, ‘हर महीने यहां दूसरे राज्यों की पुलिस के मदद मांगने के 10-12 केस आते हैं जो सेक्सटॉर्शन से संबंधित होते हैं। कुल मामलों का यह सिर्फ 10% होते हैं क्योंकि ज्यादातर लोग बदनामी के डर से केस ही नहीं दर्ज कराते हैं।’

सेक्सटॉर्शन के इस नेटवर्क की पड़ताल के लिए दैनिक भास्कर की रिपोर्टर दिल्ली से 240 किमी दूर भरतपुर के खोह थाने में पहुंची। मेवात इलाके के इस थाना क्षेत्र के ज्यादातर गांव सेक्सटॉर्शन और ऑनलाइन फ्रॉड जैसे धंधे में लिप्त हैं। थाने से मिली जानकारी के आधार पर हम एक गांव पहुंचते हैं, जिसका नाम है- चुल्हेड़ा।

गोवर्धन रेंज के नीचे पहाड़ों की तलहटी में बसे चुल्हेड़ा गांव तक पहुंचने का रास्ता बेहद ऊबड़-खाबड़, पथरीला और कीचड़ से भरा है। सेक्स चैट और वीडियो बनाकर लोगों को ब्लैकमेल करने को लेकर चर्चित इस गांव के हालात के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे, लेकिन पहले गांव से जुड़ी दो बातें जो यहां के सामाजिक-आर्थिक हालात को बताती हैं-

पहली बात: चुल्हेड़ा शिक्षा के लिहाज से बेहद पिछड़ा हुआ है। 1200 लोगों की आबादी वाले इस गांव के सिर्फ तीन युवक सरकारी नौकरी में हैं। एक सेना में, दूसरा पुलिस में और तीसरा टीचर है। ज्यादातर लोग ड्राइवर हैं या फिर पत्थर तोड़ने का काम करते हैं।

दूसरी बात: दस एक साल पहले तक इस गांव के ज्यादातर घर कच्चे थे और रहन-सहन औसत से भी नीचे था, लेकिन पिछले पांच साल में गांव का नक्शा बदलना शुरू हुआ और तेजी से पक्के मकान और गाड़ियों की संख्या बढ़ गई।

यह बदलाव एकाएक कैसे आया? इसके लिए पैसा कहां से आ रहा है? गांव के आसपास रोजगार या पैसे कमाने के बहुत मौके पैदा हुए हों, ऐसा भी नहीं है? ऐसे ही सवालों का जवाब जानने के लिए हमने मोटरसाइकिल पर जा रहे एक शख्स से बात करने की कोशिश की, लेकिन इसके जवाब में उसने हमें सावधान करते हुए कहा कि ‘आप यहां तक तो आ गई हैं, लेकिन यहां से आगे जाना आपके लिए ठीक नहीं है। वापस लौट जाइए।’ ये गांव के स्कूल के प्रिंसिपल थे, जिन्होंने बहुत आग्रह करने पर भी न अपना नाम बताया और न ही इससे ज्यादा बात की।

भरतपुर के चुल्हेड़ा गांव में सेक्सटॉर्शन के कई मामले सामने आए हैं, लेकिन गांव के लोग इस बारे में ज्यादा बात करने पर कतराते हैं। अधिकतर लोग कहते हैं कि गांव को बदनाम किया जा रहा है, लेकिन कुछ लोग मानते हैं कि यहां के कुछ लोग इस धंधे में लिप्त हैं।

गाड़ी से उतरकर हम आगे बढ़ते हैं। हमें बाजरे के कुछ खेत और बारिश का इंतजार करती वीरान जमीन और सूखे पहाड़ दिखते हैं। कुछ दूर चलने पर बकरियां चराकर लौट रहा एक लड़का हमें दिखता है। मैं पूछती हूं कि ‘क्या इस गांव से कुछ लोगों को ब्लैकमेलिंग और ठगी के लिए पकड़ा गया है?’ इस पर दूसरी तरफ से मुस्कराता हुआ जवाब आता है कि ‘आप गांव जा रहे हैं, आपको खुद ही पता चल जाएगा।’

चुल्हेड़ा गांव में ज्यादातर आबादी मेवाती लोगों की है, जो अपने आप को मेव मुसलमान बताते हैं। दूर से देखने पर ये किसी सामान्य गांव सा लगता है। दूर तक फैले खेत और धूल में खेलते बच्चे। कहीं से भी ये एहसास नहीं होता कि आप ऐसे गांव में हैं जहां से देशभर में लोगों के साथ ऑनलाइन स्कैम किए जा रहे हों, लेकिन जैसे-जैसे आप गांव के भीतर जाते हैं, नए बने मकान और घरों के बाहर खड़ी गाड़ियां आपको चौंका देती हैं। ।

मैं सबसे पहले गांव के बाहर के घरों के पास रुकी। लोगों से सेक्सटॉर्शन और फ्रॉड के धंधे से गांव का नाम जुड़ने को लेकर बात करने की कोशिश की। बिना नाम बताए एक बुजुर्ग कहते हैं कि ‘पहले जो लोग घर पर छप्पर तक नहीं डाल पाते थे, दो वक्त की रोटी मुश्किल थी, वे अब कोल्ड ड्रिंक से कुल्ला कर रहे हैं और घरों में संगमरमर ठुकवा रहे हैं। किसी सही तरीके से एकाएक तो इतना पैसा आ नहीं सकता।’

पीतल की ईंट को सोने की बताकर ठगी के लिए चर्चित रहा है इलाका

गांव में लोगों के आपत्तिजनक वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने का धंधा कब से शुरू हुआ? इस पर एक बुजुर्ग बताते हैं कि ‘राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मेवात इलाके के गांवों में ठगी पहले भी होती रही है। पहले लोग पीतल की ईंट को सोना बताकर बेच देते थे। उन्हें टटलूबाज कहा जाता था। इसके बाद जब इंटरनेट और कैशलेस लेनदेन आया तो पहले ऑनलाइन ठगी शुरू हुई और अब ये सेक्सटॉर्शन जैसे क्राइम तक पहुंच गई है।’

कुछ और आगे बढ़ने पर दीवारों पर ‘इरफान समाजसेवी’ के इश्तेहार लगे हैं। इरफान कहते हैं कि ‘आपको किसी दूसरे मुद्दे पर बात करनी है तो कीजिए, इस बारे में मैं नहीं बोल पाऊंगा, आप मेरी मजबूरी समझिए। सभी को इसी गांव में रहना है।’ इरफान की बात सही साबित होती है। हमारी गाड़ी जैसे ही गांव के एक चौराहे पर पहुंची, लोग शक भरी निगाहों से देखने लगे। एक बुजुर्ग हम से ही सवाल पूछते हैं कि ‘इस गांव में क्यों चक्कर काट रहे हो, क्या मामला है?’ उनके चेहरे पर डर और उत्सुकता दोनों थीं।’

गांव के लोगों के ऑनलाइन ठगी में शामिल होने के सवाल पर वो कहते हैं कि ‘सब पुलिस का फैलाया झूठ है। बेवजह लोगों को पकड़ ले जाते हैं।’ वहीं, एक परचून की दुकान पर बैठे लोग इसका उल्टा बताते हैं। पता चलता है कि चार लड़के कल ही जमानत पर छूटे हैं] लेकिन उन बुजुर्ग के नजदीक आते ही सब खामोश हो जाते हैं।

बीते पांच सालों में भरतपुर के मेवात के चुल्हेड़ा गांव में तेजी से पैसा आया है। कभी कच्चे घरों वाले इस गांव में तेजी से पक्के मकान बने हैं और चौपहिया गाड़ियां भी आई हैं, लेकिन लोग घरों की फोटो नहीं खींचने देते हैं।

बीते पांच सालों में भरतपुर के मेवात के चुल्हेड़ा गांव में तेजी से पैसा आया है। कभी कच्चे घरों वाले इस गांव में तेजी से पक्के मकान बने हैं और चौपहिया गाड़ियां भी आई हैं, लेकिन लोग घरों की फोटो नहीं खींचने देते हैं।

इन बुजुर्ग का नाम जानने के लिए काफी खोजबीन करनी पड़ती है। फिर कोई दबी आवाज में बताता है कि इनका नाम ममरेज है। इनका भी नया मकान बन रहा है। दूसरे राज्य की पुलिस इनके दो बेटों को पकड़कर ले गई थी। कुछ दिन पहले ही वे दोनों जमानत पर बाहर आए हैं।

थोड़ी दूरी पर हमें अजीम मिलते हैं जो अपने दो भाइयों के साथ पत्थर तोड़ने जा रहे थे। पूरा दिन मेहनत करके वो बमुश्किल तीन-चार सौ रुपए कमा पाते हैं। अजीम कहते हैं कि ‘मेरी उम्र के बहुत से लड़कों ने साल-डेढ़ साल के भीतर ही मोटा पैसा कमाया है। आप समझ लीजिए।’ गांव के आखिर में पहुंचने पर हमें कुछ औरतें मिलती हैं। बात करने पर ज्यादातर कहती हैं कि ‘यहां ठगी का कोई काम नहीं होता है, बस लोगों को बदनाम किया जा रहा है।’ तभी, इन्हीं में से एक औरत बोल पड़ती है कि ‘अगर ठगी नहीं हो रही है तो फिर ये बड़े-बड़े घर कैसे बन रहे हैं?’

कैसे काम करता है नेटवर्क और भरतपुर का मेवात क्यों सेंटर बन गया?

करीब 40 साल उम्र के एक शख्स ने बताया, ‘पहले गांव के कुछ लोग ऑनलाइन ठगी का काम करते थे। जैसे ऑनलाइन किसी चीज का विज्ञापन देकर उसे बहुत सस्ते में देने का झांसा दिया जाता था और कुछ पैसे एडवांस लेकर ठगा जाता था, लेकिन सेक्स वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम एकाध साल में ज्यादा बढ़ा है।’

सेक्सटॉर्शन का धंधा चुल्हेड़ा जैसे गांवों में कैसे फैला, इसे सिलसिलेवार तरीके से कुछ यूं समझा जा सकता है-

पहला: मेवात इलाके के चुल्हेड़ा जैसे गांव ठगी के लिए पहले से चर्चित थे। इस वजह से बाहर के कुछ गिरोह ने गांव के बेरोजगार लड़कों को अपने नेटवर्क से ज्यादा पैसों का लालच देकर जोड़ लिया।

दूसरा: इन लड़कों को एक मोबाइल और सिम दिया जाता है। इनका काम होता है कि किसी महिला का प्रोफाइल बनाकर सोशल मीडिया पर लोगों से सेक्स चैट करना और उन्हें वीडियो कॉल के लिए उकसाना। अगर कोई झांसे में आ जाता है तो स्क्रीन रिकॉर्डर से वीडियो रिकॉर्ड कर लिया जाता है।

तीसरा: इसके बाद दूसरे लोगों का काम शुरू होता है और वे संबंधित आदमी को अलग-अलग जगहों और नंबरों से फोन कर धमकाते हैं कि उनका न्यूड वीडियो रिकॉर्ड हो गया है और अगर उन्होंने पैसे नहीं दिए तो उनका वीडियो वायरल कर दिया जाएगा।

चौथा: इस धंधे की एक और कड़ी होती है जो पैसे मंगवाने के लिए बैंकों में फर्जी तरीके से खाते खुलवाती है।

भरतपुर के मेवात इलाके में रोजगार के भी ज्यादा साधन नहीं है। गुजर-बसर का तरीका या तो खेती है या पत्थर तोड़ने का काम। पुलिस का कहना है कि ऐसे में ईजी मनी के लिए कई बेरोजगार सेक्सटॉर्शन जैसे काम करने वाले गिरोहों का हिस्सा बन जाते हैं।

भरतपुर के मेवात इलाके में रोजगार के भी ज्यादा साधन नहीं है। गुजर-बसर का तरीका या तो खेती है या पत्थर तोड़ने का काम। पुलिस का कहना है कि ऐसे में ईजी मनी के लिए कई बेरोजगार सेक्सटॉर्शन जैसे काम करने वाले गिरोहों का हिस्सा बन जाते हैं।

चुल्हेड़ा और आसपास के गांव के जो लड़के इस धंधे में लिप्त हैं, वे इस धंधे की शुरुआती कड़ी होते हैं। उनका काम होता है लोगों को वीडियो कॉल कर फंसाना। इसके बाद वसूली होने पर उन्हें उसका 10 से 15% पैसा मिल जाता है। कई बार उन्हें यह तक पता नहीं होता है कि पैसे कितने वसूले गए हैं।

खोह थाने के अधिकारी बताते हैं कि ‘भरतपुर का मेवात इलाका और चुल्हेड़ा जैसे गांव सेक्सटॉर्शन के केंद्र के तौर पर इसलिए चर्चित हो गए, क्योंकि पहली वीडियो कॉल ज्यादातर इन्हीं इलाकों से की जाती है। इसलिए पुलिस की खोजबीन में सबसे पहले इन्हीं नंबरों को तलाशा जाता है। यही लोग सबसे पहले पुलिस की गिरफ्त में आते हैं। बाकी लोगों के बारे में सबूत जुटा पाना या उन्हें पकड़ना बहुत मुश्किल होता है।’

अब शाम हो रही है। हम गांव से निकलने की सोचते हैं। खेतों की हरियाली पर शाम के धुंधलके का असर दिख रहा है। हमारी गाड़ी चल पड़ती है। रास्ते में हमें सिर पर टोपी लगाए छोटे-छोटे बच्चे मिलते हैं। हाथों में धार्मिक किताब लिए मस्जिद की ओर जा रहे ये बच्चे हमें दूर तक दिखते रहते हैं।

(इस पड़ताल का दूसरा हिस्सा कल पढ़िए। जिसमें हम बताएंगे उन लोगों की कहानी जो पहले सेक्सटॉर्शन के धंधे में शामिल थे, लेकिन अब छोड़ चुके हैं।)

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *