स्वामित्व योजना: 23300 गांवों में ड्रोन सर्वे पूरा हुआ; यूपी, एमपी, राजस्थान समेत 9 राज्यों के 2.30 लाख ग्रामीणों को मिला प्रॉपर्टी कार्ड


  • Hindi News
  • Business
  • SVAMITVA Yojana Update; Rajasthan Haryana UP Uttarakhand Madhya Pradesh Villagers Gets Property Card

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश के नौ राज्यों में लागू स्वामित्व योजना के तहत 2.30 लाख लोगों को प्रॉपर्टी कार्ड बांटे जा चुके हैं। केंद्रीय पंचायती राज मंत्रालय में सचिव, सुनील कुमार ने इसके बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 31 जनवरी, 2021 तक करीब 23,300 गांवों में ड्रोन सर्वे पूरा हो चुका है। करीब 1,432 गांवों के 2.30 लाख लोगों को प्रॉपर्टी कार्ड भी बांटे जा चुके हैं।

कुमार ने बताया कि इस योजना में ड्रोन के जरिए सर्वे होने से गांवों में रिहायशी जमीन से संबंधित 90% से अधिक विवादों का निपटारा हो रहा है। ड्रोन सर्वे से पहले चूना से चिन्हांकन करने से ही 90 से 95 फीसदी विवाद सुलझ जाते हैं।

देश के 9 राज्यों में चल रही स्वामित्व स्कीम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 अप्रैल, 2020 को पंचायती राज दिवस के मौके पर स्वामित्व स्कीम का शुभारंभ किया था। इस स्कीम के जरिए गांवों के लोगों को उनकी रिहायशी जमीन और मकान का मालिकाना हक और वैध कागज प्रदान किए जाते हैं। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर यह स्कीम देश के नौ राज्यों हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पंजाब, राजस्थान और आंध्र प्रदेश में शुरू की गई है।

कुमार ने बताया कि आगामी वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पंचायती राज मंत्रालय का बजटीय आवंटन 913.43 करोड़ रुपए है। ये पिछले साल के संशोधित बजट से 32 फीसदी ज्यादा है।

स्वामित्व योजना के लिए 200 करोड़ रुपए का प्रावधान
मंत्रालय के पूरे बजटीय आवंटन में से 593 करोड़ रुपए राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान (RGSA) के लिए आवंटित किए हैं। जबकि स्वामित्व योजना के लिए 200 करोड़ रुपए का बजटीय प्रावधान किया गया है। इस योजना का पायलट प्रोजेक्ट पिछले साल 79.65 करोड़ रुपए के बजट प्रावधान के साथ शुरू किया गया था।

मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय सर्वेक्षण विभाग ने विभिन्न राज्यों में करीब 130 ड्रोन टीम तैनात की हैं। योजना में मार्च 2021 तक 500 ड्रोन तैनात किए जाएंगे।

2022 तक देशभर में होगा CORS नेटवर्क
स्वामित्व योजना के तहत जमीन की मैपिंग और जायदाद के आंकड़ों के संग्रहण के लिए पंजाब, राजस्थान, हरियाणा और मध्यप्रदेश में 210 कंटीन्यूअस ऑपरेटिंग रेफरेंस स्टेशन (CORS) स्थापित किए जा रहे हैं। इस साल मार्च तक ये स्टेशन चालू हो जाएंगे। 2022 तक देशभर में CORS का नेटवर्क तैयार हो जाएगा।

योजना में देश के 5.41 लाख गांव शामिल होंगे
इस योजना में देश के करीब 5.41 लाख गांवों को शामिल किया जाएगा। इसके लिए मंत्रालय ने विभाग को 566.23 करोड़ रुपए का प्रस्ताव भेजा है। वित्त वर्ष 2021-22 में इस योजना के तहत 16 राज्यों के 2.30 लाख गांवों को शामिल किया जाएगा। इसके लिए 200 करोड़ रुपए के बजटीय प्रावधान है।

स्वामित्व योजना के लिए ड्रोन की आवश्यकताओं ने भारत में ड्रोन निर्माण को बढ़ावा दिया है। ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स OEMs) ने अब सर्वे ग्रेड ड्रोन विकसित किए हैं। ‘मेक इन इंडिया’ प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियों को 175 यूनिट की सप्लाई दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *