हथियारों के लिए होता था एंबुलेंस का इस्तेमाल: बांदा जेल में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी के गुर्गे आनंद यादव ने कुबूला अवैध हथियारों का सच, मुख्तार ने आरोपों से किया था इंकार


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Anand Yadav, The Henchman Of Bahubali Mukhtar Ansari, Lodged In Banda Jail, Confessed The Truth Of Illegal Weapons, Mukhtar Denied The Allegations

बाराबंकी3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश की बाराबंकी पुलिस की पूछताछ में बाहुबली मुख्तार अंसारी के एंबुलेंस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। बीते दिनों गिरफ्तार हुए मुख्तार के गुर्गे आनंद यादव से पूछताछ में पुलिस के हाथ कई बड़े सुराग लगे हैं।

आरोपी आनंद ने पूछताछ में बताया है कि एंबुलेंस में असलहे भी साथ में रखे जाते थे। उसने बताया कि मुख्तार की सुरक्षा के लिए उसके गुर्गे इसी एंबुलेंस में अवैध हथियारों से लैस होकर बैठकर जाते थे।

आरोपियों की तलाश में दबिश
वहीं, आनंद की निशानदेही पर बाराबंकी पुलिस लगातार अलग-अलग जगहों पर दबिश भी दे रही है। पुलिस ने यह दबिश मामले में फरार चल रहे आरोपी मुजाहिद, शाहिद की तलाश में दी है। दोनों फरार आरोपियों पर पुलिस ने 25 हजार का ईनाम भी घोषित किया है।

दूसरी तरफ पुलिस गिरफ्त में आए आनंद यादव ने मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस को चलाने वालों के भी नाम बताए हैं। आनंद यादव ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि गाजीपुर के सलीम और सुरेंद्र मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस को चलाते थे। वहीं आनंद ने मुख्तार के साथ चलने वाले गुर्गे अफरोज का भी नाम बताया है। आनंद के बयान के आधार पर पुलिस ने इन तीनों को भी एंबुलेंस केस में आरोपी बनाया है। एंबुलेंस केस में दर्ज मुकदमे में अब तक कुल 10 लोग नामजद किए जा चुके हैं।

फर्जी दस्तावेजों से रजिस्टर्ड कराई गई थी एंबुलेंस
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर साल 2013 में रजिस्टर्ड कराई गई मुख्तार की एंबुलेंस का राजफाश होने पर बाराबंकी की नगर कोतवाली में दो अप्रैल, 2021 को मुकदमा कराया गया था। पहले इसमें केवल मऊ की एक हास्पिटल संचालिका डा. अलका राय को नामजद किया गया था। विवेचना के दौरान पुलिस ने डा. अलका के सहयोगी मऊ के ही डा. शेषनाथ राय सहित राजनाथ यादव, आनंद यादव के साथ-साथ मुख्तार अंसारी, उसके विधायक प्रतिनिधि मो. सैयद मुजाहिद, मो. जाफरी उर्फ शाहिद को भी जलसाजी, साजिश और धमकाने आदि की धाराओं में आरोपी बनाया। बाराबंकी पुलिस अब तक अलका, शेषनाथ, राजनाथ, आनंद, को जेल भेज चुकी हैं, जबकि मुख्तार बांदा जेल में बंद है। आरोपियों के बयान के आधार पर पुलिस ने मुख्तार की एंबुलेंस को चलाने वाले ड्राइवर और उसमें हमेशा मुख्तार के साथ चलने वाले तीन लोगों को भी आरोपी बनाया है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *