हर अभिभावक के लिए जरूरी खबर: ऑनलाइन पढ़ाई में 12 साल के बच्चे को लगी पोर्न वीडियो की लत; उसी को देख किया था 6 वर्ष की बच्ची से दुष्कर्म, पकड़ा


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्रीगंगानगर17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • क्योंकि कोरोनाकाल में भारत में 73% बच्चे ऐसे, जो हर रोज मोबाइल फोन का कर रहे इस्तेमाल
  • चिंताजनक आंकड़े, 42% बच्चे सोशल मीडिया पर जो देखते हैं, वैसा व्यवहार करते हैं

यह खबर उन लाखों अभिभावकों के लिए बड़ी चिंता पैदा करने वाली है, जिनके बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं। रायसिंहनगर में चार दिन पहले एक गांव में 12 वर्षीय बालक ने 6 साल की बच्ची से दुष्कर्म किया।

बच्चा रिश्ते में पीड़िता का लगता भाई है। पुलिस ने शुक्रवार को बच्चे को पकड़ कर निरुद्ध कर लिया। प्रारंभिक छानबीन में खुलासा हुआ है कि बच्चा मोबाइल फोन पर अश्लील वीडियाे देखा करता था और उसे यह लत ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान लगी। ऐसे वीडियाे देखने के बाद उसकी मानसिक साेच में नकारात्मक विचार आए और उसने इस छोटी उम्र में शर्मनाक घटना को अंजाम दे डाला। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि आरोपी कक्षा 6 का विद्यार्थी था। कोरोनाकाल के चलते वह एक साल से विद्यालय नहीं जा रहा था और अपने पिता के मोबाइल फोन पर ही पढ़ाई करता था। मोबाइल पर पढ़ाई करते-करते ही उसे अश्लील वीडियो का लिंक आया, जिस पर उसने अनजाने में क्लिक कर दिया।

1. 71% बच्चों ने लैपटॉप व मोबाइल पर देखे पाेर्न वीडियो
2. 94 प्रतिशत बच्चों ने 14 से कम उम्र में देखी थी अश्लील वीडियो।

नॉलेज; बच्चे पर माता-पिता कैसे निगरानी रखें
एप्स के जरिए

मोबाइल फोन में अगर बच्चे पोर्न देख रहे हैं तो हिस्ट्री डिलीट करना भी जानते होंगे। ऐसे समय पर आपकी मदद कुछ खास एप्स कर सकते हैं। ध्यान रहे इन एप्स का इस्तेमाल तब तक ना करें, जब तक आपको पूरी तरह से यकीन ना हो जाए कि आपका बच्चा कुछ गलत देख रहा है। Covenant Eyes, Kids Place – Parental Control, Abeona – Parental Control & Device Monitor जैसे एप्स हैं जो ऐसा करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

कुकीज के जरिए
क्रोम ब्राउजर में जाकर सेटिंग में जाएं। इसमें स्क्रॉल करके नीचे जाएं और Site Setting ऑप्शन पर टैप करें। यहां जाकर कुकीज (Cookies) ऑप्शन ऑन कर दें। इसके बाद सर्च हिस्ट्री डिलीट होने पर भी आपको पता चल जाएगा कि फोन में कैसी साइट्स देखी गई हैं। कुकीज यूजर द्वारा विजिट की गई साइट्स, एक्टिविटी और किसी वेबसाइट पर स्पेंड किए गए समय का इंफॉर्मेशन सेव रखती हैं। फिर आप देख सकते हैं कि आपके बच्चे ने किस-किस तरह की साइट्स देखी।

एक कार्टून चैनल की रिसर्च के अनुसार भारत में 96% बच्चे ऐसे घरों में रह रहे हैं, जहां मोबाइल फोन इस्तेमाल होता है। इनमें से 73% मोबाइल फोन यूजर बच्चे हैं और वे भी रोज मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *