हे मां इन्हें सद्बुद्धि दे दो: MP के टीकमंगढ़ में एक शख्स ने ग्रामीणों से कहा- माता ने सपने में कहा कि जल चढ़ाने से कोरोना नहीं होगा, सैकड़ों लोग मंदिर पहुंच गए


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

टीकमगढ़एक घंटा पहलेलेखक: हसन मोहम्मद

  • कॉपी लिंक

टीकमगढ़ के गैलवारा गांव की महिलाएं एवं पुरुष अछरूमाता को जलचढ़ाने के लिए शोभायात्रा के रूप में निकले, पुलिस प्रशासन की टीम समझाइश देती रहीं,लेकिन ग्रामीणों ने नहीं सुनी।

यह तस्वीर टीकमगढ़ जिले की है। कोरोना संक्रमण को लेकर अब ग्रामों में अंधविश्वास भी लोगों के बीच आस्था बन गई है। बुधवार को ग्राम गैलवारा की महिलाएं ग्राम से पैदल चलकर कोरोना संक्रमण से मुक्ति पाने के लिए अछरूमाता मंदिर में जल चढ़ाने सैकड़ों की संख्या में पहुंच गई। कोई सरें भरकर मंदिर में पहुंचा तो कोई पैदल ही भक्ति भाव से मंदिर दर्शन करने निकला।

यहां प्रशासन की एक नहीं चल सकी। न ही गाइडलाइन का पालन दिखाई दिया। 2500 की आबादी वाले इस गांव में मात्र 415 लोगों का वैक्सीनेशन हुआ है। दरअसल जनपद पंचायत से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम पंचायत गैलवारा में रहने वाले रामबगस कुशवाहा के बहकाने से मामला बिगड़ा है।

रामबगस कुशवाहा ने ग्रामीणों से कहा था कि मुझे रात को माता ने स्वप्न में कहा कि सभी गांव वाले मिलकर यदि मुझे जल चढ़ाएंगे तो गांव में कोरोना नहीं आएगा। जिस पर बुधवार सुबह 6 बजे से ही गांव से लगभग 150 महिलाएं-पुरुष बच्चे अछरूमाता दर्शन के लिए निकल पड़े। जब टीकमगढ़-झांसी मार्ग पर भीड़ पहुंची तो इसकी जानकारी पुलिस प्रशासन को लगी।

जिस पर बल के साथ मौके पर पहुंचे। जहां तहसीलदार अनिल तलैया, उपनिरिक्षक नम्रता गुप्ता ने ग्रामीणों को रोककर समझाया कि कोरोना के चलते आप लोग इकठ्ठा होकर कहीं नहीं जा सकते।

गांव में दल गठित, लेकिन नहीं रोक पाए
शासन की ओर से कोरोना को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में कई दल गठित किए गए हैं। जिसमें सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता सहित कई कर्मचारी शामिल हैं, इन्हें जिम्मेदारी दी गई है कि अपने क्षेत्र की ऐसी कोई भी जानकारी जो कोविड नियम के विरुद्ध हो तुरंत दें।

बावजूद इसके इतने लोग एकत्रित होकर गांव से निकल गए। हाल ही में इसी तरह बारहोबुजुर्ग और लुहरगुवां गांव इसका जीता जागता उदाहरण है। जहां आयोजनों ने कई लोग संक्रमण की चपेट में आकर जान जोखिम में डाल दी थी।

गांव में जल न चढ़ाने कराई थी मुनादी
पंचायत गैलवारा सचिव रविंद्र यादव ने बताया कि पंचायत की तरफ से गांव में मुनादी कराई थी की जल चढ़ाने से गांव कोरोना से मुक्त नहीं होगा। इसके बाद भी गांव के रामबगस कुशवाहा के कहने पर सभी लोग अछरूमाता मंदिर पर जल चढ़ाने के लिए एकत्रित हो गए।

थाना प्रभारी नरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि ग्राम पंचायत के सचिव रविंद्र यादव की रिर्पोट पर कोरोना काल में कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन करने में गैलवारा ग्राम के निवासी रामवगस कुशवाहा के खिलाफ धारा 188, 269, 270 के तहत आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *