10 महीने बाद खुले कॉलेज: 20% छात्र ही पहुंचे, मास्क पहनने और थर्मल स्कैनिंग के बाद ही मिल पाई एंट्री


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिमला20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना काल के बाद कॉलेज खुलने के बाद अब कैंपस में भी स्टूडेंट्स से रौनक बढ़ गई है। मंडी कॉलेज के कैंपस में धूप का मजा लेते स्टूडेंट्स।

कोरोना महामारी के बीच 10 महीने के बाद सोमवार से प्रदेश के कॉलेजों में नियमित कक्षाएं शुरू हुई है।पहले दिन कॉलेजों में केवल 20 फीसद छात्र ही पहुंचे। सुबह 10 बजे से पहले ही काॅलेज का पूरा स्टाफ ड्यूटी पर पहुंच गया था। छात्र व शिक्षक सभी की गेट पर थर्मल स्कैनिंग की गई। बिना मास्क किसी को भी अंदर नहीं आने दिया गया।

सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की पालना करने के लिए कॉलेजों ने अपने स्तर पर व्यवस्था तैयार की थी। प्रदेश के ऐसे कॉलेज जहां पर छात्रों की संख्या ज्यादा है वहां पर छात्रों के कक्षावार ग्रुप्स बनाए गए हैं। प्रथम वर्ष के छात्रों को सोमवार और मंगलवार, द्वितीय वर्ष के छात्रों को बुधवार और वीरवार, तृतीय वर्ष के छात्रों को शुक्रवार और शनिवार को कक्षा लगाने के लिए बुलाया जा रहा है। कई कॉलेजों ने रोल नंबर के हिसाब से ऑड-इवन व्यवस्था तैयार की है। कई कॉलेजों ने मॉर्निंग और इवनिंग सैशन में छात्रों को कक्षाएं लगाने के लिए बुलाया।

कॉलेजों को रोज देनी होगी जानकारी, कितने छात्र आए

शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत शर्मा ने सोमवार को सभी कॉलेजों को फाॅर्मेट भेजा है। कॉलेज प्रधानाचार्य को ये फॉर्मेट भरकर रोजाना ऑनलाइन शिक्षा निदेशालय भेजना होगा। इसमें बताना होगा कि किस दिन कितने छात्र कक्षा में पहुंचे। कितने शिक्षक आए। कितनों ने प्रैक्टिकल की कक्षा लगाई।

कोई छात्र या शिक्षक पॉजिटिव तो नहीं आया। या किसी में कोई लक्षण तो नहीं आए। एक हफ्ते तक विभाग इसकी मॉनिटरिंग करेगा। इसकी रिपोर्ट सरकार को भी भेजी जाएगी। छात्रों की संख्या का आकलन करने के बाद दोबारा से सरकार इसकी समीक्षा होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *