7 राज्यों तक फैला है धर्मांतरण का नेटवर्क: डेफ सोसायटी की संचालिका ने खोला राज, धर्मांतरण के बाद नोएडा और केरल में आतंकवाद की ट्रेनिंग होती थी; मौलाना उमर का कबूलनामा- कई देश में ये काम कर रहे


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Religious Conversion UP Latest Updates। Noida Deaf School A Recruitment Hub For Terrorists; Kashmiri Students Used To Work As Tools; Network Of IDC In 7 States And 4 Country

लखनऊएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश में धर्म परिवर्तन कराने वालों पर बड़ा खुलासा हुआ है। मालूम चला है कि नोएडा के जिस मूक-बधिर स्कूल में हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराया जाता था वहां आतंकवादी भी तैयार किए जाते थे। इसमें कश्मीरी छात्रों को टूल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था।

ये कश्मीरी छात्र अन्य राज्यों से इस स्कूल में आने वाले बच्चों को इस्लाम अपनाने के लिए प्रेरित करते थे। यही नहीं धार्मंतरण का ये नेटवर्क केवल उत्तर प्रदेश नहीं, बल्कि 7 अन्य राज्यों तक फैला है। इनमें यूपी के साथ केरल, असम, जम्मू कश्मीर,महाराष्ट्र, दिल्ली और तमिलनाडु भी शामिल है। ये खुलासा डेफ सोसायटी की संचालिका रोमा रोका ने ATS की पूछताछ में किया है।

डेफ सोसायटी ही नोएडा के मूक-बधिर स्कूल का संचालन करती थी। दूसरी तरफ धर्मांतरण के आरोपी मौलाना उमर गौतम का एक नया वीडियो भी ATS के हाथ लगा है। इसमें वह बता रहा है कि उसने अब तक 18 बार इंग्लैंड और 4 बार अमेरिका की यात्रा की है। विदेशी रैकेट के भी शामिल होने की जानकारी सामने आने के बाद जल्द ही इस मामले को NIA टेकओवर कर सकती है।

रोमा रोका, संचालिका डेफ सोसायटी, नोएडा

रोमा रोका, संचालिका डेफ सोसायटी, नोएडा

डेफ सोसायटी की संचालिका ने खोला कई राज

  • ऐसे बच्चों का धर्म परिवर्तन कराया जाता था जिन्हें सामाजिक दायरे में उपेक्षा महसूस होता था। ऐसे ही बच्चों को आतंकी की भी ट्रेनिंग दी जाती थी।
  • ISI के एजेंट के तौर पर काम कर रही मौलानाओं की संस्था इस्लामिक दावा सेंटर (Islamic Da’wah Center) कई साल से नोएडा डेफ सोसायटी के छात्र-छात्राओं को निशाना बना रही थी।
  • स्कूल में कई मुस्लिम मौलाना और आतंकी हिंदू बनकर हिंदू छात्रों की मदद करने आते थे और उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित करते।
  • कश्मीरी छात्र धर्मांतरण के लिए यहां हिंदू स्टूडेंट्स को इस्लामिक संगठनों से मिलने वाले रुपए और अन्य सुविधाओं का लालच देते हैं।
  • जैसे ही कोई छात्र प्रलोभन में आ जाता तो कश्मीरी छात्र इसकी जानकारी स्कूल स्टाफ को दे देते थे और स्कूल स्टाफ यह मैसेज दावा इस्लामिक सेंटर तक पहुंचाता।
  • धर्मांतरण कराने वाले छात्रों को ISI से मिले फंड दिए जाते थे।
  • हिंदू छात्रों का धर्म परिवर्तन कराने के बाद उन्हें केरल के इडुक्की जिले में थांगलपारा में आतंकी का ट्रेनिंग दिलाया जाता था। यहां कट्टर इस्लामिक आतंकी संगठन सिमी का ट्रेनिंग कैंप चलता है।
  • केरल के इस कैंप में धर्म परिवर्तन कर आए छात्रों को जेहादी साहित्य पढ़ाया जाता था। इन्हें तैराकी, चट्टानों की चढ़ाई और दुनिया के सबसे आधुनिक हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी जाती थी।

मौलानाओं से आमना-सामना करवाकर सच उगलवाएगी ATS
ATS ने पकड़े गए दोनों मौलानाओं को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने दोनों की एक सप्ताह की रिमांड मंजूर कर दी है। बुधवार से शुरू हो रही रिमांड के दौरान दोनों का सबसे पहले रोमा से आमना सामना कराया जाएगा। इसके लिए रोमा को अभी तक एटीएस मुख्यालय में ही सुरक्षित स्थान पर रखा गया है। इसके बाद मौलानाओं को उन जगहों पर ले जाया जाएगा जहां से उन्होंने धर्म परिवर्तन करवाए थे।

महीने में औसतन 15 से ज्यादा लोगों का धर्मांतरण होता था
उमर गौतम का जो दूसरा वीडियो आया है उसमें वह दावा करता दिख रहा है कि इस्लामिक दावा सेंटर जामिया, दिल्ली में उसने करीब 1000 लोगो के धर्मांतरण सम्बन्धी डॉक्यूमेंट जारी किए हैं। इस्लामिक दावा सेंटर में महीने में औसत 15 से ज्यादा लोगो का धर्मांतरण डॉक्यूमेंट जारी किया जाता है। उसने बताया कि इस्लामिक दावा सेंटर के जरिए इंग्लैण्ड, सिंगापुर, पोलैंड तक में धर्मांतरण का काम होता है। लोगों के इस्लाम कबूल करने से अल्लाह का काम हो रहा है।

अभी इस मामले में क्या चल रहा ?

  • धर्मांतरण प्रकरण में जल्द ही NIA जुड़ सकती है।
  • इस प्रकरण का मुख्य किरदार दिल्ली के जामिया नगर का रहने वाला है।
  • विदेशी फंडिंग के इनपुट्स मिलने के बाद केंद्रीय एजेंसियां भी अलर्ट हैं।
  • आज दोपहर से ATS एक बार फिर मौलाना जहांगीर और उमर गौतम से पूछताछ शुरू करेगी। ATS ने दोनों मौलानाओं को 7 दिन के रिमांड पर लिया है।
  • गिरफ्तार किए गए मौलाना उमर गौतम और जहांगीर पर NSA के तहत कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *