80 सीओ जांच के घेरे में: राज्यभर में पहली बार बड़े पैमाने पर सरकारी भूमि की जमाबंदी, सीएनटी लैंड में हेराफेरी, एक जमीन का म्यूटेशन कई लोगों को


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची/धनबाद23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सरिता के मातृत्व अवकाश पर जाने पर शशिभूषण रहे सीओ; उनके समय में भी धांधली, वे भी निलंबित।

  • झारखंड में पहली बार सामने आ रहा इतने बड़े पैमाने पर जमीन का गोरखधंधा, सरकारी अफसर शामिल
  • 25 अफसरों पर चल रही विभागीय कार्यवाही, 2 माह में 4 सीओ सस्पेंड

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को सरकारी जमीन के अवैध म्यूटेशन के मामले में गिरिडीह के सरिया के दो पूर्व अंचलाधिकारियों (सीओ) को निलंबित कर दिया। इस कार्रवाई के बाद झारखंड में सरकारी अफसरों द्वारा जमीन की गड़बड़ी करने का गोरखधंधा और खुलकर सामने आ गया।

झारखंड में 268 अंचल हैं, जिनके 80 सीओ पर जांच चल रही है। भू-राजस्व से जुड़े दो दर्जन से अधिक अफसरों पर विभागीय कार्यवाही चल रही है। दो माह में चार सीओ निलंबित किए गए हैं। वहीं, धनबाद में सीओ, अवर निबंधकों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए हजारीबाग आयुक्त को आरोप पत्र तैयार कर भू-राजस्व विभाग को भेजने का निर्देश दिया गया है।

जानिए जमीन से कमाई के लिए कैसी चालाकी कर रहे अधिकारी

सरकारी जमीन की जमाबंदी कर दी, रसीद भी कटने लगी
1. धनबाद के गोविंदपुर अंचल के सीओ ने आमा घटा मौजा में 3 डिसमिल सरकारी जमीन की जमाबंदी रैयत के नाम से खोल दी और बाद में रसीद भी कटने लगी। धनबाद शहर, गाेविंदपुर, बलियापुर और बाघमारा अंचल में बड़े पैमाने पर गैरमजरुआ जमीन का म्यूटेशन, सीएनटी जमीन की ऑनलाइन जमाबंदी तथा प्लाॅट की हेराफेरी कर दाखिल-खारिज किए गए। जांच में पूर्व व वर्तमान सीओ, अन्य कर्मचारी दोषी पाए गए।

नियम-विरुद्व पोस्टिंग, माफिया का साथ दे जमीन की हेराफेरी
2. सरिया की पूर्व सीओ सुनीता कुमारी की पोस्टिंग नियम विरुद्ध उनकी ससुराल (सरिया अंचल) में ही हो गई। उन्होंने वहां के निजी रैयतों को सरकारी जमीन की अवैध जमाबंदी कर दी। सुनीता पर बालू माफिया का समर्थन करने, सरिया में ससुराल होने और पति के साथ मिलकर जमीन की हेराफेरी का आरोप है। ऐसे ही कई मामले की जांच अन्य सीओ और राजस्व कर्मचारियों पर चल रही है।

गैरमजरुआ जमीन की खरीद बिक्री, बाद में म्यूटेशन भी
3.सरिया बीडीओ शशिभूषण वर्मा को सीओ का प्रभार मिला। इस दौरान उन्होंने बड़की सरिया की गैरमजरुआ खाता संख्या 200 की जमीन की अवैध ढंग से जमाबंदी कर दी। ऑनलाइन गड़बड़ी भी पकड़ी गई। इसमें प्रभारी अंचल निरीक्षक केवत राउत की भूमिका संदिग्ध रही। अन्य कर्मचारियों की भी मिलीभगत की पुष्टि हुई। राज्य में ऐसे ही कई कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई चल रही है।

खेल में शामिल अवर निबंधकों की भी जांच की जा रही
देवघर के अवर निबंधक राहुल चौबे को निलंबित किया जा चुका है। रांची के जिला अवर निबंधक अविनाश कुमार को हेडक्वार्टर बुला लिया गया है। इससे पूर्व धनबाद के अवर निबंधक श्वेता कुमारी के विरुद्ध एसीबी जांच चल रही है। धनबाद के ही अवर निबंधक रहे शाहदेव मेहरा, सुजीत कुमार, संतोष कुमार के विरुद्ध भी एसीबी जांच जारी है।

सीएम ने और दो पर की कार्रवाई

उसी जिले में रहीं सीओ जहां हुई शादी, धांधली में सस्पेंड

सरिया अंचल के दो पूर्व सीओ शशिभूषण वर्मा व सुनीता कुमारी को गुरुवार को निलंबित कर दिया गया। जनवरी-19 में सुनीता के मातृत्व अवकाश पर जाने के कारण तत्कालीन बीडीओ शशिभूषण वर्मा को सीओ का प्रभार मिला था। इस दौरान उन्होंने बड़की सरिया में सरकारी जमीन अवैध रूप से नामांतरित कर दी। जब फिर सुनीता ने सीओ का प्रभार लिया तो उन्होंने भी गैरमजरुआ भूमि अवैध नामांतरित कर दी। जांच में गड़बड़ी करने की पुष्टि हुई। सुनीता की ससुराल भी सरिया में ही है और नियम-विरुद्ध यहां उनकी पाेस्टिंग हुई। विधायक विनोद सिंह ने इसकी शिकायत की थी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *