RBI की रिपोर्ट: बैंकिंग से जुड़ी शिकायतें 57% बढ़ीं, लेकिन इनको निपटाने का समय कम होने की बजाए दोगुना हुआ


  • Hindi News
  • Business
  • RBI ; SBI ; Banking ; Bank Complaint : Banking Complaints Increased By 57% But The Settlement Time Doubled Rather Than Reduced.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • 1 जनवरी से 30 जून 2020 तक 3.08 लाख शिकायतें आईं
  • हर 5 में से 1 शिकायत ATM व डेबिट कार्ड से जुड़ी है
  • पहले शिकायत निपटाने में औसतन 47 दिन लगते थे अब 95 दिन लग रहे

जहां एक ओर साल 2020 की पहली छमाही में बैंकिंग सर्विस से जुड़ी शिकायतें तेजी से बढ़ी हैं, तो वहीं दूसरी ओर बैंक अब इन्हें सुलझाने में दोगुना समय लगाने लगे हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के अनुसार बैंक से संबंधित शिकायतों की कुल संख्या 1 जनवरी से 30 जून 2020 तक 3.08 लाख तक पहुंच गई। जो पिछले साल इसी समय के मुकाबले 57% ज्यादा है।

सबसे ज्यादा शिकायतें ATM व डेबिट कार्ड से जुड़ी
RBI के अनुसार सबसे ज्यादा शिकायतें ATM व डेबिट कार्ड से जुड़ी हैं। ये कुल शिकायतों की 20% से भी ज्यादा हैं। मोबाइल या इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग से जुड़ी शिकायतें 13.38% रहीं। वहीं खराब बैंकिंग सेवा से जुड़ी समस्याओं की संख्या तीसरे नंबर पर रही।

शिकायतों के निपटारे में लग रहा ज्यादा समय
रिपोर्ट के अनुसार शिकायतों के निपटारे में जून से पहले जहां औसतन 47 दिन लगते थे वहीं अब यह 95 दिनों का समय लग रहा है। वित्त वर्ष 2019-20 में इसमें 45 दिन का समय लगता था। मतलब शिकायतों को निपटाने का समय कम होने की बजाए दोगुना हो गया है।

SBI में शिकायतों की संख्या घटी
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) और अन्य सरकारी बैंकों में शिकायतों में कमी आई है। SBI और दूसरे नेशनल बैंकों का हिस्सा घटकर 59.65% हो गया, जो पिछले साल इसी समय 61.90% था। लोकपाल योजना के तहत नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (NBFC) के खिलाफ शिकायतें 386% बढ़ी हैं। इनके खिलाफ कुल 19,432 मिलीं।

समस्या सुलझाने के मामले में SBI आगे
SBI ने सबसे ज्यादा 48,333 शिकायतों को सुलझाया। इसके बाद HDFC बैंक ने 15,004, ICICI बैंक ने 11,844 और एक्सिस बैंक ने 10,457 शिकायतों को सुलझाया।

वित्त वर्ष 2019-20 में चंडीगढ से आई सबसे ज्यादा शिकायतें
इस रिपोर्ट के अनुसार बैंक संबंधित सबसे ज्यादा शिकायत चंडीगढ़ से आई हैं। 2019-20 में यहां से 31,594 शिकायत आई हैं। इसके बाद भोपाल में शिकायतों की यह संख्या 14,510 रही।

मेट्रो शहरों में बढ़ी शिकायतें
मेट्रो शहरों से शिकायतों की संख्या सबसे ज्यादा रहीं। रिपोर्ट के अनुसार 2019-20 में यह बढ़कर करीब 50% तक हो गया है। तीन साल पहले कुल शिकायतों में मेट्रो शहरों से आने वाले शिकायतों का हिस्सा करीब 26% था। वहीं शहरी इलाकों में यह घटकर 22% पर आ गया है। 2017-18 में यह 50 फीसदी के करीब था।

ग्राहकों को सही सर्विस के लिए शुरू हुई थी बैंकिंग लोकपाल योजना
बैंकिंग लोकपाल योजना (ऑम्बड्समैन स्कीम) के जरिए RBI बैंकों, NBFC और डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रखती है। ये स्कीम 2006 में ग्राहकों की शिकायतों एवं समस्याओं को सुलझाने के लिये शुरू की गई थी। वैसे तो बैंकिंग लोकपाल योजना 1995 में लागू की गई थी, लेकिन 2002 एवं 2006 में इस योजना का दायरा बढ़ाते हुए संशोधन किए गए, ताकि बैंकों द्वारा सही बैंकिंग सेवाएं दी जा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *